.....

संतोष पाटिल केस में फंसे मंत्री ईश्वरप्पा

 कर्नाटक के मंत्री केएस ईश्वरप्पा और उनके सहयोगियों बसवराज और रमेश पर ठेकेदार संतोष पाटिल की आत्महत्या का केस दर्ज किया गया है। मंत्री के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज होने के बाद ख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने ईश्वरप्पा को तलब किया है। इस मामले में दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के घर पर भी प्रदर्शन हुआ। हालांकि ईश्वरप्पा ने ठेकेदार संतोष पाटिल से किसी भी मुलाकात से इन्कार किया। साथ ही कहा कि वे इस्तीफा नहीं देंगे। ईश्वरप्पा और उनके सहयोगियों पर आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया गया है। पाटिल के भाई प्रशांत की शिकायत पर उदीपी में मामला दर्ज किया गया था। कर्नाटक के मंत्री केएस ईश्वरप्पा पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले ठेकेदार संतोष पाटिल मंगलवार को उडुपी के एक लॉज में मृत पाए गए। संतोष पाटिल के भाई प्रशांत पाटिल ने अपने भाई की मौत के लिए ईश्वरप्पा को जिम्मेदार ठहराया है।


अमेरिका में चार सिखों ने दाढ़ी रखने से मना करने पर मरीन कोर के खिलाफ कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। इनमें से एक मरीन कोर में कैप्टन सुखबीर सिंह तूर भी शामिल हैं, जिन्होंने पिछले एक साल से दाढ़ी और पगड़ी पहनने को लेकर अभियान चलाया था, जिसके बाद मरीन कोर ने उन्हें इसकी अनुमति दे दी थी। परंतु, हाल ही में मरीन कोर ने लड़ाई के मोर्चे पर तैनाती या बूट कैंप के दौरान तूर समेत किसी भी सिख को दाढ़ी रखने की छूट देने से इन्कार कर दिया। मरीन कोर ने कहा कि दाढ़ी कोर के काम करने की क्षमता को प्रभावित करती है और जान को भी जोखिम में डालती है। सोमवार को तूर और तीन अन्य सिखों ने मरीन कोर के खिलाफ अमेरिका के कोलंबिया जिला अदालत में मामला दर्ज कराया। इन्होंने कहा कि कोर द्वारा धार्मिक छूट देने से इन्कार करना मनमाना और भेदभावपूर्ण है और उनके धर्म के मुक्त पालन के संवैधानिक अधिकार का उल्लंघन करता है। तूर के साथ वाद दायर करने वाले तीनों सिखों का कहना है कि उनसे बूट कैंप के दौरान दाढ़ी कटवाने को कहा गया था। बूट कैंप में अमेरिकी मरीन को बेसिक ट्रेनिंग दी जाती है।

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment