.....

पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख 11 अप्रैल तक के लिए CBI कस्टडी में भेजे गये

 सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को 11 अप्रैल तक के लिए सीबीआई की कस्टडी में भेज दिया है। सीबीआई ने अनिल देशमुख को भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच के सिलसिले में मुंबई की आर्थर रोड जेल से हिरासत में लिया था। महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री और राकांपा के वरिष्ठ नेता अनिल देशमुख को उनके खिलाफ दर्ज भ्रष्टाचार के मामले में गिरफ्तार किया गया है। मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परम बीर सिंह द्वारा उन पर लगाए गए आरोपों के बाद भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया गया था। सिंह ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे पत्र में आरोप लगाया था कि तत्कालीन गृह मंत्री देशमुख ने मुंबई पुलिस के कुछ अधिकारियों को शहर के रेस्तरां और बार से प्रति माह 100 करोड़ रुपये लेने के लिए कहा था। जहां देशमुख ने आरोपों का खंडन किया था, वहीं उन्होंने पिछले साल अप्रैल में पद से इस्तीफा दे दिया था।


राकांपा नेता ने सीबीआई को उन्हें हिरासत में लेने की अनुमति देने वाले विशेष अदालत के आदेश को चुनौती देते हुए बंबई उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। देशमुख ने अपनी याचिका में सीबीआई द्वारा उनकी हिरासत की मांग करने वाली याचिका को भी चुनौती दी थी। सीबीआई ने पहले उनके सहायक कुंदन शिंदे, सचिव संजीव पलांडे को हिरासत में लिया था और अब सहायक पुलिस निरीक्षक सचिन वाजे को बर्खास्त कर दिया है। इससे पहले बॉम्बे हाईकोर्ट ने अनिल देशमुख की याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया था।

इससे पहले कल, सीबीआई ने आरोप लगाया था कि देशमुख जानबूझकर एजेंसी की हिरासत से बचने की कोशिश कर रहा था और इसी उद्देश्य के लिए उसे सरकारी जेजे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। देशमुख को आर्थोपेडिक वार्ड में भर्ती कराया गया था और उन्हें कल अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी। प्रवर्तन निदेशालय ने राकांपा नेता को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में नवंबर 2021 में गिरफ्तार किया था।

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment