.....

मुंबई में मिला देश का पहला कोरोना वायरस XE संक्रमण का मामला

 कोरोना से जुड़ी पाबंदियों के हटने के बाद राहत की सांस ले रहे देश के लोगों के लिए फिर एक नई मुसीबत दस्तक दे रही है। मुंबई में कोविड-19 के ओमिक्रॉन के नए वेरिएंट XE का पहला केस मिला है। इसके अलावा ओमिक्रॉन के कप्पा वैरिएंट का भी एक केस मिला है। आपको बता दें कि ये नया वेरिएंट कोरोना वायरस के पिछले वेरिएंट के मुकाबले बहुत तेजी से फैलता है। राहत की बात ये है कि नए वेरिएंट से संक्रमित मरीजों में फिलहाल कोई गंभीर लक्षण नजर नहीं आ रहे हैं। आपको बता दें कि जिन 376 नमूनों का परीक्षण किया गया था, उनमें से 230 मुंबई के निवासी हैं। इन 230 मरीज़ों में से 21 को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था। इनमें वैक्सीन की दोनों खुराक लेने वालों में 9 लोग भी शामिल हैं। वहीं अस्पताल में भर्ती 12 मरीज ऐसे थे, जिन्होंने वैक्सीन की कोई खुराक नहीं ली थी। अस्पताल में भर्ती मरीजों में से किसी को भी ऑक्सीजन या गहन देखभाल की जरूरत नहीं पड़ी।


अब तक कोविड के तीन हाइब्रिड या रिकॉम्बिनेंट स्ट्रेन का पता चला है, जिसमें से पहला- XD, दूसरा- XF और तीसरा- XE है। इनमें से पहले और दूसरे वेरिएंट डेल्टा और ओमिक्रोन के कॉम्बिनेशन से पैदा हुए हैं, जबकि तीसरा ओमिक्रोन सबवेरिएंट का हाइब्रिड स्ट्रेन है। XE वेरिएंट के बारे में 19 जनवरी 2022 को सबसे पहले ब्रिटेन में पता चला। इस हाइब्रिड स्ट्रेन के अब तक 600 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। XE के लिए शुरुआती विकास दर BA.2 से काफी अलग नहीं थी, जिसे स्टेल्थ ओमिक्रोन भी कहा जाता है। मौजूदा समय में ब्रिटेन में स्टेल्थ ओमिक्रोन के मुकाबले XE वेरिएंट के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। अगर इसकी रफ्तार जारी रही, तो ये फिर से पूरी दुनिया के लिए खतरा बन सकता है।

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment