.....

हार्दिक पांड्या को झटका, ग्रेड-ए से ग्रेड-सी में डिमोट किए गए, रहाणे-पुजारा को भी बड़ा नुकसान

 भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने टेस्ट टीम से बाहर किए गए अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा को एक और बड़ा झटका दिया है। न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, दोनों ही सीनियर खिलाड़ियों के ग्रेड में बदलाव किए गए हैं और उन्हें डिमोट किया गया है। पुजारा और रहाणे को ग्रेड-ए से ग्रेड-बी में भेज दिया गया है।

वहीं, 2021 टी-20 विश्व कप के बाद से टीम से बाहर चल रहे ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या को भी झटका लगा है। उन्हें ग्रेड-ए से सीधे ग्रेड-सी में डिमोट किया गया है। हार्दिक की जगह फिलहाल वेंकटेश अय्यर टीम इंडिया में ऑलराउंडर की भूमिका निभा रहे हैं। पूर्व सिलेक्टर और भारत के पूर्व तेज गेंदबाज अभय कुरुविला को बीसीसीआई का नया जनरल मैनेजर भी बनाया गया है।

ऋद्धिमान साहा को भी हुआ नुकसान
विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा को भी नुकसान हुआ है। साहा को ग्रेड-बी से ग्रेड-सी में भेज दिया गया है। साहा, पुजारा और रहाणे तीनों को श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट टीम में जगह नहीं मिली है। पुजारा और रहाणे पिछले कुछ समय से फॉर्म में नहीं हैं। बोर्ड जनवरी से अप्रैल के बीच में हर साल सालाना केंद्रीय अनुबंध (बीसीसीआई सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट) की घोषणा करता है।
ग्रेड के मुताबिक मिलते हैं रुपये
बीसीसीआई कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट में खिलाड़ियों को चार तरह के ग्रेड देता है। इसमें ए+, ए, बी और सी शामिल है। हर ग्रेड में एक तय सालाना सैलरी है। ए+ ग्रेड वालों को सालाना सात करोड़ रुपये, ए ग्रेड वालों को पांच करोड़ रुपये, बी ग्रेड वालों को तीन करोड़ रुपये और सी ग्रेड वालों को एक करोड़ रुपये की राशि मिलती है।
कौन चुनता है खिलाड़ियों को?
खिलाड़ियों के ग्रेड पर फैसला लेने के लिए बीसीसीआई ऑफिस के तीन अधिकारी, पांच सिलेक्टर्स और टीम इंडिया के हेड कोच मौजूद होते हैं। 
Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment