PM मोदी ने विपक्षी गठबंधन को 'महामिलावट' बताया, कांग्रेस पर लगाया सेना को निहत्‍था करने का आरोप

नयी दिल्‍ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में गुरुवार को कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. उन्‍होंने अपने भाषणा की शुरुआत मेें अपने सरकार की उपलब्धियों के बारे में बताया. 

उन्‍होंने कहा, हमारी सरकार ईमानदारी और पारदर्शिता के लिए है. उन्‍होंने कहा, लोकसभा में कई मुद्दों पर सार्थक चर्चा हुई, आने वाले चुनावों में स्वस्थ प्रतिस्पर्धा के लिए सभी को शुभकामनाएं.

चुनौतियों को चुनौती देना देश का स्वभाव होता है, जो चुनौतियों से भागते हैं वह नयी चुनौतियों को जन्म देते हैं. 

उन्‍होंने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा, कुछ लोगों के लिए BC और AD की अपनी परिभाषा है. उनके लिए BC का मतलब Before कांग्रेस और AD का मतलब After Dynasty है. पीएम मोदी ने कहा, देश की अर्थव्यवस्था में पिछले साढ़े 4 सालों में काफी उछाल आया है. 

उन्‍होंने संस्‍थाओं को बबार्द करने के कांग्रेस के हमले पर पलटवार करते हुए कहा, मोदी की आलोचना कीजिए, सरकार की नीतियों की आलोचना कीजिए, लेकिन आलोचना करते-करते देश की की बुराई की जाने लगती है. 

आप कहते हैं कि मोदी देश संस्थाओं को बर्बाद कर रहे हैं, लेकिन हमारे यहां एक कहावत हैं 'उल्टा चोर चौकीदार को डांटे. उन्‍होंने कहा, मोदी पर उंगली उठाने वाले पहले ये सोचें 4 अंगुलियां आपकी ओर हैं.  

राफेल सौदे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर गंभीर आरोप लगाया. कहा,  कांग्रेस नहीं चाहती है कि हमारी वायु सेना मजबूत हो. उन्‍होंने कहा, मैं यहां गंभीर आरोप लगा रहा हूं. आप (कांग्रेस) चाहते हैं कि यह राफेल सौदा रद्द हो जाये, किसके इशारे पर? किस कंपनी के लिए?. 
राफेल पर एक-एक आरोप का जवाब रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया है, सुप्रीम कोर्ट ने भी इसपर फैसला दिया है.
 उन्‍होंने कहा, कांग्रेस के 55 सालों के शासन में कोई भी रक्षा सौदा बिना किसी दलाली के नहीं हुआ था. अब पारदर्शिता के साथ सौदे हो रहे हैं. इसलिए आत्मविश्वास के साथ झूठ बोले जा रहे हैं. 3-3 राजदारों को बाहर से लाया गया है. अब इन्हें चिंता हो रही है.नरेंद्र मोदी ने विपक्ष की एकता पर भी जमकर निशाना साधा. 
उन्‍होंने महागठबंधन को महा मिलावट बताया, कहा - देश ने 30 साल ‘मिलावटी' सरकार देखी है और अब तो ‘महामिलावट' वाली सरकार की कोशिश हो रही है, लेकिन देश की जनता को यह नहीं चाहिए. 
मोदी की इस टिप्‍पणी पर संसद में जमकर हंगामा हुआ. उन्‍होंने कहा, कोलकाता में एकसाथ आते हैं और राज्यों में एक-दूसरे का मुंह नहीं देखते. हेल्दी डिमॉक्रेसी वाले लोग 'महामिलावट' से दूर रहेंगे. 
2014 में देश की जनता ने पूर्ण बहुमत की सरकार चुनी और देश अनुभव करता है, जब मिलावटी सरकार होती है तब क्‍या हाल होता है. अब तो महाविलावट आने वाली है. ये महामिलावट यहां पहुंचने वाली नहीं है. इसे आप कोलकाता में इकट्ठा करो. 
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment