.....

PM मोदी ने कहा- देशवासियों के लक्ष्य के अनुरूप भारत स्वच्छ होकर रहेगा

इंदौर : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि हर देशवासी के लक्ष्य के अनुरूप भारत स्वच्छ होकर रहेगा। महात्मा गाँधी का स्वच्छ भारत का सपना पूरा करने का संकल्प लिया गया है। उन्होंने कहा कि देश, समाज और व्यक्ति को बदलने से पहले सोच को बदलना होता है।
 स्वच्छता की सोच में बदलाव लाकर देश ने दिखा दिया है। वर्ष 2022 में देश में ऐसा कोई परिवार नहीं होगा, जिसके पास अपना घर नहीं हो। आने वाले तीन-चार वर्षों में देश में दो करोड़ से ज्यादा आवास बनाये जायेंगे। पिछले चार वर्ष में देश में एक करोड़ पन्द्रह लाख आवास का निर्माण किया गया है।
 प्रधानमंत्री श्री मोदी आज इंदौर में मध्यप्रदेश शहरी विकास महोत्सव एवं स्वच्छता सर्वेक्षण पुरस्कार समारोह को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में प्रधानमंत्री श्री मोदी ने करीब 4 हजार 700 करोड़ रूपये की नगरीय विकास परियोजनाओं का ई-लोकार्पण तथा मध्यप्रदेश सरकार की अरबन ट्रांसपोर्ट स्कीम 'सूत्र सेवा' का शुभारंभ किया। श्री मोदी ने प्रधानमंत्री आवास योजना के एक लाख से अधिक हितग्राहियों को ई-गृह प्रवेश करवाया।
प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वच्छता एक दिन में नहीं आती। बल्कि जब सारे नागरिक मिलकर चौबीसों घंटे इसे प्राप्त करने के लिये काम करते हैं, तब यह प्राप्त होती है। 
मध्यप्रदेश ने अपने पराक्रम और पुरूषार्थ से इस गौरव को प्राप्त किया है। दो शहर इंदौर और भोपाल देश के प्रथम और द्वितीय स्वच्छ शहर है। 
इंदौर की सफलता की कहानी यहां की जनता की जीवटता, सहयोग और शहर के प्रति अपनेपन का उदाहरण है। देवी अहिल्या बाई ने अपने शासन में जनता की छोटी सी छोटी जरूरतों को प्राथमिकता दी। इंदौर ने स्वच्छता के आग्रह और नागरिक कर्तव्यों को जीवन में उतारकर देवी अहिल्या बाई को सच्ची श्रद्धांजलि दी है।
उन्होंने ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान में देश के 18 राज्यों के 2300 शहरों ने खुद को खुले में शौच से मुक्त घोषित कर दिया है।
 बीते चार वर्षों में देश में 8 करोड़ 30 हजार शौचालयों का निर्माण हुआ है, जिसमें मध्यप्रदेश में 65 लाख शौचालय बनें। मध्यप्रदेश के सभी शहरों ने अपने को खुले में शौच से मुक्त घोषित किया है।
श्री मोदी ने कहा कि देश की आत्मा गाँव है तो शहर ऊर्जा के केन्द्र हैं। पिछली केन्द्र सरकार ने शहरों की तरफ ध्यान नहीं दिया जिससे आबादी तो बढ़ती गई पर सुविधाएं नहीं बढ़ी। 
पिछले चार सालों में शहरी विकास के लिये दो लाख 30 हजार करोड़ रूपये मंजूर किये। जबकि पिछली केन्द्र सरकार ने दस वर्ष में केवल 95 हजार करोड़ रूपये स्वीकृत किये थे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि नई सोच और दृष्टिकोण के साथ शहरों के लिये पाँच बड़ी योजनाएं स्वच्छता, प्रधानमंत्री आवास, स्मार्ट सिटी, अमृत योजना और दीनदयाल उपाध्याय शहरी आजीविका मिशन की शुरूआत हुई है। देश के 100 शहरों को स्मार्ट सिटी बनाने का काम तेजी से चल रहा है।
 अगले पांच वर्षों में स्मार्ट सिटी योजना में 20 हजार करोड़ रूपये का निवेश किया जायेगा। अमृत योजना के तहत पीने के पानी और सीवेज व्यवस्था का काम शहरों में किया जा रहा है। शहरों में प्रदूषण मुक्त परिवहन और कचरे से निपटने के प्रबंध किये जा रहे हैं। 
आज मध्यप्रदेश के शहरों में एक लाख से ज्यादा गरीबों ने अपने घरों में गृह प्रवेश किया, यह एक ऐतिहासिक घटना है। बीते चार वर्षों में पिछली सरकार के दस वर्ष की तुलना में तीन गुना आवास स्वीकृत किये गये। पहले आवास निर्माण का समय 18 माह था अब एक वर्ष के भीतर निर्माण पूरा हो रहा है।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment