.....

भोपाल में महापौर पद की भाजपा प्रत्‍याशी मालती राय

  भारतीय जनता पार्टी ने लंबी उठापटक के बाद आखिरकार भोपाल नगर निगम के लिए महापौर पद का प्रत्याशी घोषित कर दिया। पार्टी ने वरिष्ठ नेत्री मालती राय के नाम पर मुहर लगाई है। वह वर्ष 1985 से भाजपा की सक्रिय नेता हैं। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई सहित कर्इं दिग्गज नेताओं के साथ पार्टी के लिए काम किया है। उनका नाम सोमवार सुबह से ही चर्चा में आ गया था लेकिन कुछ अटकलें लग रहीं थी। इसके बाद मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केंद्रीय नेतृत्व से विचार-विमर्श किया। आखिरकार मंगलवार दोपहर को पार्टी प्रदेशाध्‍यक्ष ने उनके नाम की मंगलवार को घोषणा कर दी। अब वह महापौर की कुर्सी के लिए कांग्रेस उम्मीदवार विभा पटेल को टक्‍कर देंगी। अपने नाम की घोषणा के बाद मालती राय भाजपा के जिला अध्यक्ष सुमित पचौरी के साथ खेड़ापति मंदिर पहुंची और भगवान के दर्शन कर मत्‍था टेका। इसके बाद वह पार्टी के मुख्‍यालय पहुंचीं और पार्टी अध्‍यक्ष वीडी शर्मा से मुलाकात की।


यहां पर यह बता दें कि मालती राय प्रदेश के चिकित्‍सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग की खास मानी जाती है और भोपाल में पूर्व पार्षद भी रह चुकी हैं। भोपाल नगर निगम चुनाव में महापौर उम्मीदवार को लेकर भाजपा में सबसे ज्यादा घमासान मचा हुआ था। बता दें राजधानी में भाजपा की कोर ग्रुप की बैठक लगातार जारी थी। जिसमें 16 नगर निगमों में महापौर के प्रत्याशियों के नामों पर चर्चा हो रही थी। विधायकों की तरफ से पहले ही इस नाम पर सुझाव दिया गया था। लेकिन पार्टी ने एक नाम पर सहमति बनाने के लिए सरकार और संगठन के नेताओं को बुलाया था। महापौर के नाम को लेकर बंद कमरे में सांसद विधायक जिलाध्यक्ष के साथ वन टू वन बैठक की गई। विधायक और मंत्रियों की तरफ से इस नाम पर सहमति जताई गई थी। जबकि संगठन दूसरा विकल्प तलाश रहा था। ऐसे में सबको उम्मीद थी कि कोई चौंकाने वाला चेहरा ही सामने आएगा, लेकिन पार्टी ने मालती के नाम पर मुहर लगा दी।

विधायकों ने जताई थी मालती के नाम पर सहमति

बैठक में भोपाल के तीनों विधायकों ने प्रत्याशी के लिए मालती राय के नाम पर सहमति जताई थी। इसके पीछे तर्क दिया गया है कि वह पार्टी की पुरानी कार्यकर्ता है, जो चुनाव लड़ चुकी हैं। किसी नए चेहरे को लाने पर कार्यकर्ता स्वीकार नहीं करेंगे। जिससे चुनाव फंस सकता है। अब केवल 15 दिन का समय चुनाव प्रचार में बचा है। वहीं संगठन की तरफ से कहा गया था कि मालती राय दो बार पार्षद का चुनाव हार चुकी और राजो मालवीय भी मेयर का चुनाव विभा पटेल से हार चुकी है। पार्टी विधायक को टिकट नहीं देने का मन बना चुकी है जिसके चलते कृष्णा गौर इस दौड़ से बाहर हो गई थी। इसी बीच भोपाल से भाजपा में महापौर उम्मीदवार के लिए एक और नया नाम सामने आया था। बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष और किरार महासभा की पदाधिकारी जागृति किरार को भोपाल भाजपा से उम्मीदवार बनाए जाने की चर्चा थी। वहीं भोपाल से भारती कुंभारे का नाम भी चर्चाओं में था, लेकिन आखिर मालती राय के नाम पर सहमति बन गई है।

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment