.....

'बड़े अरमान' के साथ लाड़ली लक्ष्मी योजना के नए संस्करण का शुभारंभ मुख्‍यमंत्री ने किया

भोपाल। लाड़ली लक्ष्मी योजना के नए संस्करण का शुभारंभ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किया। कार्यक्रम में पहुंचे मुख्‍यमंत्री का बेटियों ने शोर कर किया स्वागत। बेटियों पर पुष्प वर्षा करते हुए मंच पर पहुंचे मुख्‍यमंत्री।मंच पर संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर, यशोधरा राजे सिंधिया, भाजपा जिलाध्यक्ष सुमित पचौरी , भाजपा की प्रवक्ता नेहा बग्गा मौजूद है।मुख्‍यमंत्री ने कहा बालिका अपराध घटित नहीं होने पर उस ग्राम पंचायत को लाड़ली लक्ष्मी पंचायत घोषित करेंगे और हर साल 2 -12 मई तक लाड़ली लक्ष्मी दिवस मनाया जाएगा।


मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मदर्स डे है पता है। मां को प्रणाम करो। आज मुझे मां याद आ रही है। मैंने अपनी मां को बचपन में खो दिया था। मां पिता की हमेशा इज्जत करना।आज मेरी जिंदगी सफल, मुख्यमंत्री बनना सफल। 42 लाख से ज्यादा लाड़ली लक्ष्मी प्रदेश में हो गई। लाड़ली लक्ष्मी योजना बनने की कहानी सुनाई।उन्‍होंने अपने संबोधन में कहा, बेटी डाक्टर, इंजीनियर, आइएएस, आइपीएस बनो, जिस भी क्षेत्र में जाओगी मामा और भाजपा सरकार साथ खड़ी है। लाड़ली संवाद एप बनाया है। इसके माध्यम से संवाद करोगी। जब जरूरत पड़े। योजना बेटियों को ऊंचा बढ़ने में इतिहास रचेगी। बुद्धि सब में बस मेहनत की जरूरत है

इस योजना को 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है। दरअसल, शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री की अपनी पहली पारी में इस योजना की शुरुआत की थी, जिसे इस कदर सराहा गया कि 2008 के विधानसभा की नैया अकेले इसी योजना ने पार लगा दी थी। 2013 के विधानसभा चुनाव में भी इसका खासा प्रभाव देखा गया।

लोकसभा चुनावों में भी इस योजना ने भाजपा के अरमानों को परवान चढ़ाया। बीते दिनों पचमढ़ी चिंतन में कैबिनेट ने उन योजनाओं को फिर से नए कलेवर के साथ उतारने पर मंथन किया था, जो सोशल इंजीनियरिंग के लिहाज से चुनावी खेल को एकतरफा बनाने में सक्षम दिखाई दें। लाड़ली लक्ष्मी योजना 2.0 से पहले भाजपा सरकार अप्रैल में मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना भी शुरू कर चुकी है, जिसमें तीर्थ यात्रियों को विमान से भेजने की घोषणा हो चुकी है, वहीं डाक्टर आंबेडकर से जुड़े पंच तीर्थ भी शामिल किए गए हैं।

लाडली ई-सवांद एप का होगा लोकार्पण

मुख्यमंत्री रविवार को लाड़ली लक्ष्मी उत्सव के तहत लाल परेड ग्राउंड में शाम सात बजे मुख्य कार्यक्रम में इसका शुभारंभ करेंगे। कार्यक्रम में 7,500 लाडलियां उपस्थित रहेंगी। साथ ही सभी जिले, विकासखंड, ग्राम पंचायत और निकायों से भी लाडली लक्ष्मियां और जनप्रतिनिधि वर्चुअली जुड़ेंगे। मुख्यमंत्री लाड़ली बेटियों से सतत संवाद स्थापित किए जाने के लिए लाडली ई-सवांद एप का लोकार्पण भी करेंगे।

'2.0’ में यह है नया

एक एप की मदद से सभी बेटियों को समग्र आइडी के माध्यम से शिक्षा पोर्टल से जोड़ा जाएगा, जिससे उनकी शैक्षणिक स्थिति की निरंतर ट्रैकिंग हो सकेगी। बालिकाओं की सर्वोत्तम देखभाल करने वाली ग्राम पंचायतों को लाड़ली फ्रैंडली' ग्राम पंचायत घोषित किया जाएगा। बालिकाओं को कक्षा 12वीं के बाद स्नातक अथवा व्यवसायिक पाठ्यक्रम में जिसकी अवधि न्यूनतम दो वर्ष होगी, प्रवेश लेने पर दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि दो समान किश्तों (25 हजार रुपये)में दी जाएगी। उच्च शिक्षा में स्नातक डिग्री अध्ययन या व्यावसायिक डिप्लोमा के लिए शिक्षण शुल्क का वहन राज्य शासन द्वारा किया जाएगा।

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment