.....

पीएम इमरान खान का देश को संदेश,

 पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की कुर्सी का संकट गहरा गया है। पाकिस्तानी संसद के निचले सदन में बैठक शुरु होने के कुछ ही देर बाद सदन को 3 अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दिया गया। इस बैठक में पीएम के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा होनी थी। लेकिन कार्यवाही शुरु होते ही नेशनल असेंबली को 3 अप्रैल की सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया। इस पर विपक्ष के नेताओं ने जमकर नारेबाजी की। आपको बता दें कि शाहबाज शरीफ ने पाकिस्तानी संविधान के अनुच्छेद ए-95 के तहत अविश्वास प्रस्ताव पेश किया था और इस पर 161 सदस्यों ने दस्तखत कर रखे हैं। अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान तीन अप्रैल को होगा।


 पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान आज रात राष्ट्र को संबोधित कर सकते हैं। उन्होंने बुधवार को अपना भाषण स्थगित कर दिया था। पाकिस्तान के मंत्री शेख राशिद अहमद ने इस बारे में जानकारी दी। इससे पहले प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपने आवास पर राष्ट्रीय सुरक्षा समिति (NSC) की बैठक बुलाई। आपको बता दें कि एनएससी, जो सुरक्षा मुद्दों पर समन्वय के लिए सर्वोच्च मंच है, उसकी अध्यक्षता प्रधान मंत्री करते हैं और इसमें प्रमुख संघीय मंत्री, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, सेवा प्रमुख और शीर्ष खुफिया अधिकारी शामिल होते हैं। रिपोर्टों के अनुसार, इस बैठक में "विदेशी खतरे" वाले पत्र पर चर्चा की जाएगी। एक दिन पहले प्रधान मंत्री ने एक पत्र साझा किया था, जिसमें कथित तौर पर उनकी सरकार गिराने के लिए एक विदेशी साजिश का सबूत का दावा किया गया।

मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट-पाकिस्तान (MQM-P) के संघीय मंत्रियों के रूप में सेवारत दोनों सदस्यों, फारोग नसीम और अमीनुल हक ने इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव में विपक्ष के साथ अपनी पार्टी की घोषणा के कुछ घंटों बाद अपने पदों से इस्तीफा दे दिया है। विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान के दिन के रूप में सरकार को बैक-टू-बैक झटके का सामना करना पड़ रहा है।

पाकिस्तान की 342 सदस्यीय नेशनल असेंबली में इमरान खान की पार्टी के 155 सदस्य हैं। इमरान को सत्ता में बने रहने के लिए कम से कम 172 सांसदों के समर्थन की जरूरत है। वैसे माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री को नेशनल असेंबली में बहुमत नहीं है, क्योंकि कई सहयोगियों ने सरकार के खेमे को छोड़ दिया है और विपक्ष का समर्थन करने का फैसला किया है।

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment