.....

दुष्‍कर्म आरोपी महंत सीताराम दास गिरफ्तार

रीवा, शहर के मध्य स्थित सर्किट हाउस में एक महंत सहित 4 लोगों पर नाबालिग से सामूहिक दुष्‍कर्म का आरोप लगा है। पुलिस ने इस मामले में आरोपित महंत सीताराम दास को गिरफ्तार कर लिया है। बलात्कार के आरोपित महंत को सिंगरौली के टी आई यू पी सिंह एवं डीएसपी राजीव पाठक ने गिरफ्तार किया है। जानकारी के अनुसार महंत को सैलून से पुलिस ने गिरफ्तार किया वह बाल कटवाकर वेश बदलने का प्रयास कर रहा था जब सैलून वाले ने पहचान कर बातों में उलझाए रखा और पुलिस पहुंच गई।


पीडि़ता के बयान के आधार पर सिविल लाइन पुलिस में मामला दर्ज कर जहां हिस्ट्रीशीटर विनोद पांडे को गिरफ्तार कर लिया है वहीं अन्य तीन की तलाश तेज कर दी गई थी। उक्त वारदात शहर के सबसे पॉश एरिया सर्किट हाउस में हुई। गत 28 मार्च की शाम आरोपित एनेक्सी भवन रूम नंबर-4 में ठहरा हुआ था। इस दौरान महंत की जान-पहचान का हिस्ट्रीशीटर बदमाश लड़की को वहां लेकर गया।

किशोरी को यह कहा गया था कि महंत के विशेष आशीर्वाद से उसके बिगड़े काम बन जाएंगे। क्योंकि उक्त महंत को विशेष आशीर्वाद प्राप्त है। किशोरी को वहां पहले शराब पिलाने की कोशिश की गई। बाद में उसे कमरा बंद कर हवस का शिकार बनाया गया। रूम हिस्ट्रीशीटर के नाम पर ही बुक था।

आरोपित महंत श्रीराम जन्मभूमि न्यास के पूर्व सदस्य व पूर्व सांसद रामविलास वेदांती का शिष्य है। बताते चलें कि उक्त महंत न केवल उनका शिष्य है बल्कि परिवार के नाते राम विलास वेदांती का नाती लगता है जो कि जिले के गुढ़ थाना क्षेत्र अंतर्गत गुढ़वा वर्क का रहने वाला है। पुलिस मामला दर्ज कर विवेचना कर रही है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शिवकुमार वर्मा ने बताया कि गत सोमवार शाम अकौरी थाना नईगढ़ी निवासी विनोद पांडेय के बुलाने पर किशोरी सतना से रीवा आई थी। किशोरी को झांसा देकर महंत से मिलने सर्किट हाउस लाया गया था। उसे पहले सैनिक स्कूल के पास बुलाया गया। फिर वहां से गाड़ी में बैठकर सर्किट हाउस के अंदर लाया गया। नाबालिग को महंत सीताराम उर्फ समर्थ त्रिपाठी से विनोद पांडेय ने मिलवाया था।

पी रहे थे शराब : पीड़िता ने पुलिस को बताया है कि वहां महंत, विनोद और एक अन्य लोग शराब पी रहे थे। उसे भी शराब पिलाना चाही। लेकिन शराब पीने से मना कर दिया जिसके बाद कमरे में मौजूद अन्‍य बाहर चले गए जबकि कमरे में मौजूद महंत ने उसे अपने हवस का शिकार बनाया। महंत ने गलत काम करने के बाद अपने अन्य सहयोगियों से उसे घर छोड़ आने को कहा। अन्य लोगों ने उसे किसी से कुछ बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी थी। जिसके बाद पीड़िता अपने घर सतना पहुंची, उसने पूरे घटनाक्रम की जानकारी अपने स्वजन को दी। गत 29 मार्च की शाम पिता के साथ रीवा के सिविल थाने पहुंचकर मामला दर्ज कराया है।


Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment