.....

राष्ट्रपति पुतिन से पीएम मोदी ने एक बार फिर बात की, भारतीय नागरिकों की सुरक्षा का उठाया मुद्दा

 यूक्रेन में रुस के तेज होते हमलों के बीच आज प्रधानमंत्री मोदी ने एक बार फिर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बात की। ये बातचीत यूक्रेन से भारतीयों को सुरक्षित निकालने को लेकर हुई है।दरअसल यूक्रेन के बड़े शहरों पर रूस का हमला तेज हो चुका है और आम नागरिक ठिकानों को भी काफी नुकसान पहुंच रहा है। ऐसे में भारत सरकार इन शहरों में फंसे भारतीय नागरिकों को एक सेफ पैसेज दिलवाने की कोशिश कर रही है। इस बैठक के बाद पीएम मोदी भारतीयों की सुरक्षा के मुद्दे पर एक बार फिर उच्चस्तरीय बैठक करने जा रहे हैं।



भारतीयों को खारकीव खाली करने का निर्देश

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों के लिए दिन-ब-दिन खतरा बढ़ता जा रहा है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने वहां फंसे भारतीय छात्रों के लिए ताजा एडवाइजरी जारी की है, जिसमें छात्रों से कहा गया है कि खारकीव से जितनी जल्दी हो सके, निकल जाएं। उन्हें किसी भी सूरत में शाम 6 बजे तक (यूक्रेन के समयानुसार) Pisochyn, Bezlyudovka & Babaye के सेट्लमेंट में पहुंचने को कहा गया है। विदेश मंत्रालय ने बताया कि ये एडवाइजरी रुस से मिली जानकारी के आधार पर जारी की गई है। यानी रुस जल्द ही खारकीव में अंतिम और बड़ा हमला करने वाला है।

परमाणु हमले का खतरा

उधर, रूस ने एक बार फिर परमाणु युद्ध की चेतावनी दी है। रूस के विदेश मंत्री ने कहा है कि तीसरा विश्व युद्ध महाविनाशकारी होगा. उन्होंने कहा कि तीसरा विश्व युद्ध परमाणु हमले वाला होगा। रूस ने कहा है कि वह यूक्रेन के प्रतिनिधिमंडल का इंतजार करेगा।उधर रूस ने यूक्रेन के कई शहरों पर रॉकेट और मिसाइलों से हमला किया। आज रूसी सेना ने खारकीव मिलिट्री अकादमी को निशाना बनाया। ताजा जानकारी के मुताबिक खारकीव में हुए रुसी हमलों में 4 लोगों की मौत हो गई, जबकि 9 घायल हो गये हैं। वहीं, यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की ने दावा किया कि जंग के पिछले छह दिनों में यूक्रेनी सेना ने रूस के 6 हजार जवानों को मार गिराया है।

भारतीयों को निकालने का अभियान जारी

भारतीय नागरिकों को सुरक्षित निकालने का प्रयास जारी है। ऑपरेशन गंगा के तहत नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया रोमानिया की राजधानी बुखारेस्ट पहुंचे हुए हैं और छात्रों की सुरक्षित वापसी की निगरानी कर रहे हैं। आज बुखारेस्ट में हेनरी कोंडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उन्होंने भारतीय छात्रों के साथ बातचीत की। उन्होंने आश्वासन दिया कि सभी छात्रों को निकाला जा रहा है और भारत वापस लाया जाएगा।

तिरंगे ने बचाई जान

यूक्रेन से रोमानिया के बुखारेस्ट शहर आए कई भारतीय छात्रों ने बताया कि चेकपॉइंट्स से सुरक्षित निकलने में तिरंगे ने उनकी काफी मदद की। जिन गाड़ियों पर तिरंगा लगा था, उन्हें बिल्कुल भी रोका नहीं जा रहा है। यहां तक कि कुछ पाकिस्तानी और तुर्की के छात्रों ने तिरंगे की मदद ली। आपको बता दें ऑपरेशन गंगा के तहत भारतीय छात्रों को यूक्रेन से बाहर निकाला जा रहा है। इन छात्रों के लिए यूक्रेन के पड़ोसी देश रोमानिया, स्लोविया और पोलैंड से विशेष फ्लाइट्स उड़ाई जा रही हैं। इस काम में एयर इंडिया, स्पाइसजेट और इंडिगो के विमान भी लगे हुए हैं। इनका सारा खर्च भारत सरकार उठा रही है।


Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment