.....

मीन संक्रांति 15 मार्च को, इस दिन दान करने से सुख-समुद्धि में होती है वृद्धि

 ग्वालियर। सूर्य के मीन राशि में प्रवेश के कारण सूर्य के प्रभाव से बृहस्पति की सक्रियता कम हो जाती है। इसलिए इस समय को खरमास या मलमास के नाम से जाना जाता है। ज्योतिषाचार्य सुनील चोपड़ा ने बताया कि खरमास व मलमास साल में दो बार आते हैं, जब सूर्य धनु में प्रवेश करता है और मीन में राशि परिवर्तन करता है। इस समय को खरमास या मलमास कहते हैं। सूर्य मीन राशि मे 14 व 15 मार्च में मध्य रात्रि 12:15 बजे प्रवेश करेगा, जिससे इस दिन मीन संक्रांति रहेगी। मीन संक्रांति हिंदुओं का एक प्रमुख त्याैहार माना जाता है। मीन संक्रांति को साल के आखिरी माह की संक्रांति के रूप में मनाया जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार यह साल का आखिरी माह होता है।


मीन संक्रांति का महत्वः मीन संक्रांति का शास्त्रों में बड़ा महत्व बताया जाता है। इस दिन को धार्मिक दृष्टि से भी पवित्र और शुभ माना जाता है, बल्कि व्यवहारिक रूप से भी उत्तम माना जाता है। मीन संक्रांति से सूरज की गति उत्तरायण की तरफ बढ़ रही होती है। उत्तरायण काल में सूरज उत्तर दिशा की ओर उदय होता दिखाई देता है। उसमें दिन का समय बढ़ जाता है और रातें छोटी हो जाती हैं। इसके साथ ही प्रकृति में नया जीवन शुरू हो जाता है। इस समय वातावरण और हवा भी शुद्ध हो जाती है। ऐसे में देव उपासना, योग, ध्यान, पूजा, तन, मन और बुद्धि को पुष्ट करते हैं। इस समय रातें छोटी होने के कारण नकारात्मक शक्तियों में भी कमी आ जाती है और दिन में ऊर्जा प्राप्त होती है।

मीन संक्रांति पर दान व पूजा का महत्वः मीन संक्रांति के शुभ दिन पर विशेष चीजों का दान करना बहुत शुभ माना जाता है। ज्यादातर इस दिन को दिव्य आशीर्वाद को ग्रहण करने का दिन माना जाता है। मीन संक्रांति के दिन दान पुण्य करने के लिए बहुत शुभ दिन माना जाता है। मीन संक्रांति के दिन ब्राह्मण और जरूरतमंदों को अन्न, वस्त्र आदि का दान दिया जाता है। मीन संक्रांति के दिन भूमि का दान करने से अत्यंत सुख समृद्धि व वृद्धि होती है।

मीन संक्रांति के दिन दान का महत्वः

-मीन संक्रांति के दिन आराध्य देवी देवता की पूजा की जाती है।

-इस दिन सूर्य देवता को अर्घ्य दिया जाता है।

-मीन संक्रांति के दिन तिल, वस्त्र और अनाज का दान किया जाता है।

-मीन संक्रांति के दिन गाय को चारा खिलाना शुभ माना जाता है।

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment