.....

यूक्रेन में तबाह कर चुके पूरा सैन्य ढांचा - राष्ट्रपति पुतिन

 युद्ध के 10वें दिन रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने दावा करते हुए कहा है कि ऑपरेशन का लक्ष्य हम पूरा करके रहेंगे. उन्होंने कहा कि हम यूक्रेन का सैन्य ठांचा तबाह कर चुके हैं. उन्होंने ये भी कहा कि यूक्रेन अगर डानबास लौटा दे तो शांति होगी. पुतिन ने यूक्रेन में विशेष सैन्य अभियान के फैसले को मुश्किल बताते हुए कहा कि रूस यूक्रेन में संघर्ष को शांतिपूर्ण तरीके से हल करने की कोशिश कर रहा था. डोनबास को रूसी बोलने और अपने तरीके से जीने की इजाजत देना जरूरी था, लेकिन नाकाबंदी कर दी गई. 



पुतिन ने कहा कि 2014 से अब तक डानबास में 13 से 14 हजार लोग मारे गए हैं, लेकिन पश्चिमी देशों ने इस तरफ ध्यान नहीं दिया. पुतिन ने उन दावों को बेतुका बताया, जिसमें कहा जा रहा है कि रूस मिन्स्क समझौतों को पूरा नहीं कर रहा है. पुतिन ने कहा रूस ने यूक्रेन संघर्ष को शांतिपूर्ण ढंग से निपटाने की कोशिश की. डानबास के लोगों को रूसी बोलने और अपना जीवन जीने देना जरूरी था. पुतिन ने कहा कि यूक्रेनी पक्ष ने 6,000 से अधिक विदेशी नागरिकों को बंधक बना रखा है, साथ ही यूक्रेन अपने नागरिकों के साथ और भी बुरा व्यवहार करता है. पुतिन ने कहा कि यूक्रेन की तटस्थ स्थिति की जरूरत है, जिससे ये देश नाटो में शामिल न हो.

पुतिन ने ये भी कहा कि यूक्रेन में रूस के खिलाफ सैन्य कार्रवाई का विरोध करने वालों को बिना मुकदमे और जांच के गोली मार दी जा रही है. रूस यूक्रेन पर नो-फ्लाई ज़ोन स्थापित करने के अन्य देशों के किसी भी प्रयास को शत्रुता में भागीदारी के रूप में मानेगा. पुतिन ने कहा कि बाहरी आक्रमण की स्थिति में मार्शल लॉ लगाया जाता है. रूस में अभी ऐसी कोई स्थिति नहीं है और उम्मीद है कि ये आगे भी नहीं होगी. पुतिन ने कहा यूक्रेन का लगभग पूरा सैन्य ढांचा नष्ट कर दिया गया है. हवाई रक्षा को खत्म करने का काम लगभग पूरा हो चुका है.

पुतिन ने कहा कि अगर रूस ने सैन्य अभियान को डानबास तक सीमित कर दिया तो यूक्रेनी सेना को लगातार संसाधन प्राप्त होंगे. रूस के खिलाफ प्रतिबंध युद्ध की घोषणा के समान है. पुतिन ने कहा कि विमानन के क्षेत्र में रूस के खिलाफ प्रतिबंध लगाने वालों को नुकसान हो रहा है. हमें समझना चाहिए कि अगर वे वही करना जारी रखते हैं जो वे करते हैं, तो वे यूक्रेनी राज्य के भविष्य पर सवाल उठा रहे हैं.

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment