.....

श्रावण मास 29 दिन का , इसमें 4 सोमवार होंगे

 धर्म : हिंदू कैलेंडर का पांचवा महीना यानी श्रावण मास 25 जुलाई से शुरू हो गया है। ये 22 अगस्त तक रहेगा। पिछले साल की तरह इस बार भी ये महीना 29 दिनों का रहेगा। इन दिनों में शिव पूजा के लिए 4 सोमवार, 2 प्रदोष और 2 चतुर्दशी तिथियां खास रहेंगी। साथ ही इस महीने 17 दिन शुभ योग भी रहेंगे। इस तरह पूरा महीना शिव आराधना और स्नान-दान के लिए बहुत खास रहेगा। साथ ही इस महीने आ रहे शुभ योगों में खरीदारी और नए कामों की शुरुआत की जा सकेगी।



सावन की शुरुआत और अंत श्रवण नक्षत्र में

इस बार भी सावन महीने में 29 दिन ही रहेंगे। महीने के पहले ही दिन यानी रविवार को प्रतिपदा और द्वितिया दोनों तिथियां रहेंगी। वहीं शुक्लपक्ष की अष्टमी और नवमी तिथि भी एक ही दिन रहेंगी। इस तरह तिथियों की घट-बढ़ की वजह से ऐसा होगा। इस बार सावन महीने की शुरूआत श्रवण नक्षत्र में होगी और इस महीने के आखिरी दिन भी श्रवण नक्षत्र ही रहेगा। इस नक्षत्र का स्वामी चंद्रमा होता है। इस तरह के संयोग से पूरा महीना शुभ रहेगा।

6 शुभ योगों के 17 दिन

सावन महीने की शुरुआत 25 जुलाई, रविवार से हो गई है और ये महीना रविवार, 22 अगस्त को खत्म होगा। इस बार सावन में चार सोमवार रहेंगे। साथ ही दो प्रदोष 2 चतुर्दशी तिथियां रहेंगी। ये सभी दिन शिव पूजा के लिए बहुत ही शुभ माने जाते हैं। इन दिनों में की गई शिव पूजा का कई गुना पुण्य मिलता है। डॉ. मिश्र बताते हैं कि इस बार सावन महीने में 10 सर्वार्थसिद्धि, 1 अमृतसिद्धि, 1 द्विपुष्कर, 1 त्रिपुष्कर, 1 रविपुष्य और 11 रवियोग रहेंगे। इन शुभ योगों में की गई भगवान शिव की पूजा से विशेष फल मिलता है। पूजा-पाठ में का शिवजी का अभिषेक करने से आयु, धन और स्वास्थ्य में वृद्धि होती है।

श्रावण महीने के सोमवार

श्रावण महीने में सोमवार 26 जुलाई, 2, 9 और 16 अगस्त को हैं। वहीं, 5 अगस्त को गुरु प्रदोष और 20 अगस्त को शुक्र प्रदोष रहेगा। इनके अलावा भगवान शिव की तिथियां यानी चतुर्दशी 6 और 21 अगस्त को रहेगी। इस तरह सावन के ये 8 दिन शिव आराधना के लिए बहुत ही शुभ रहेंगे।

    सोमवार, 26 जुलाई 2021 पहला सावन सोमवार व्रत

    सोमवार, 2 अगस्त 2021 दूसरा सावन सोमवार व्रत

    सोमवार, 9 अगस्त 2021 तीसरा सावन सोमवार व्रत

    सोमवार, 16 अगस्त 2021 चौथा सावन सोमवार व्रत 

ऐसे समझें सावन में आने वाले व्रत और पर्वों की स्थिति

सावन में चार सोमवार पड़ेंगे। जिसमें दो कृष्णपक्ष और दो शुक्लपक्ष में होंगे। धर्म ग्रंथों में बताया गया है कि श्रावण माह में सोमवार को व्रत और भगवान शिव की पूजा करने से हर तरह की परेशानियां खत्म हो जाती हैं और बीमारियों से भी छुटकारा मिल जााता है। सावन सोमवार से ही सौलह सोमवार व्रत की शुरुआत होती हैं।

श्रावण में 28 जुलाई को मौना पंचमी, 4 अगस्त को एकादशी, 5 अगस्त को प्रदोष, 8 अगस्त को हरियाली अमावस्या, 11 अगस्त को हरियाली तीज, 13 अगस्त को नागपंचमी, 18 अगस्त को पुत्रदा एकादशी, 20 अगस्त को शुक्र प्रदोष और 22 अगस्त को रक्षाबंधन मनाया जाएगा।


Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment