राहुल गांधी भोपाल में करेंगे लोकसभा चुनाव का शंखनाद, कांग्रेस का हाथ थामेंगे कुसमरिया

भोपाल : कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी आठ फरवरी को भोपाल में आयोजित आभार सम्मेलन से लोकसभा चुनाव का शंखनाद करेंगे। मध्यप्रदेश कांग्रेस ने इस मेगा शो के लिए पूरी ताकत झोंक दी है, दो लाख किसानों को लाने का लक्ष्य रखा गया है।
राहुल की मौजूदगी में दिग्गज भाजपा नेता एवं पूर्व मंत्री डॉ. रामकृष्ण कुसमरिया को कांग्रेस की सदस्यता दिलाने की तैयारी भी है। छत्तीसगढ़ और राजस्थान की तर्ज पर राहुल यहां कोई बड़ी घोषणा भी कर सकते हैं।
मध्यप्रदेश में शुक्रवार से कांग्रेस अध्यक्ष चुनावी बिगुल फूंकेंगे। किसान आभार सम्मेलन में वह किसानों से संवाद भी करेंगे। इस मौके पर ऋण माफी योजना लागू करने के लिए प्रदेश के किसान राहुल का अभिनंदन करेंगे। 
प्रदेश में विधानसभा चुनाव के करीब छह महीने पहले छह जून को मंदसौर की सभा में राहुल गांधी ने एलान किया था कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी तो किसानों के कर्जमाफ किए जाएंगे। कांग्रेस की सरकार बनते ही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश में कर्जमाफी लागू कर दी। 
कर्जमाफी योजना के तहत कमलनाथ सरकार ने प्रदेश के करीब 55 लाख किसानों के दो लाख रुपए तक के कर्जमाफ करने का फैसला किया है। कर्जमाफी से प्रदेश पर करीब 50 हजार करोड़ रुपए का भार आएगा। मुख्यमंत्री ने 22 फरवरी से किसानों के खाते में राशि भेजने का दावा किया है।
आभार सम्मेलन के जरिए लोकसभा चुनाव का बिगूल फूंकने आ रहे कांग्रेस अध्यक्ष बड़ी घोषणा भी कर सकते हैं। उल्लेखनीय है कि राहुल छत्तीसगढ़ में न्यूनतम आमदनी और राजस्थान की सभा में महिला आरक्षण को लेकर बड़ा एलान कर चुके हैं। 
राजधानी के जंबूरी मैदान में कांग्रेस अध्यक्ष दोपहर सवा दो बजे पहुंचेंगे। इस मौके पर राहुल वरिष्ठ भाजपा नेता डॉ. कुसमरिया सहित समानता दल और कुछ बसपा नेताओं को कांग्रेस की सदस्यता दिलाएंगे। उधर, प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में कांग्रेस पिछड़ा वर्ग विभाग की बैठक में तैयारियों पर चर्चा हुई। बैठक में पूर्व महापौर दीपचंद यादव सहित कई नेता मौजूद थे। पदाधिकारियों को जवाबदारियां भी दी गईं। 
पांच बार सांसद और चार मर्तबा विधायक रह चुके दिग्गज भाजपाई कुसमरिया पांच साल तक कृषि मंत्री रहे हैं। डॉ. कुसमरिया की कांग्रेस में बात हो चुकी है और राहुल गांधी के सामने वह पार्टी की सदस्यता लेंगे।
उन्होंने बताया कि बतौर लोकसभा सदस्य वह राहुल के संपर्क में रहे। बुंदेलखंड में जब सूखा पड़ा, तब वह राहुल के साथ कई गांवों में घूमे भी, उसके बाद बुंदेलखंड पैकेज मंजूर हुआ था। 
उल्लेखनीय है कि विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी का टिकट नहीं मिलने पर डॉ. कुसमरिया ने दमोह और पथरिया से निर्दलीय चुनाव लड़कर भाजपा प्रत्याशियों की मुश्किलें बढ़ा दी थीं। इस बात की संभावना है कि कांग्रेस उन्हें बुंदेलखंड में किसी सीट से लोकसभा का टिकट भी दे सकती है।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment