रक्षाबंधन 2018: जानिए राखी बांधने का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्‍व

भारत में त्‍योहार सिर्फ खाने-पीने और मौज-मस्‍ती का नाम नहीं हैं, बल्‍कि यह एक दूसरे के प्रति प्‍यार, समर्पण और त्‍याग को भी दर्शाते हैं. 

ऐसा ही एक त्‍योहार है रक्षाबंधन जो भाई-बहन के असीम प्‍यार का प्रतीक है. भाई-बहन साल भर इस त्‍योहार का इंतजार करते हैं. 

रक्षाबंधन के दिन बहनें अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र या राखी बांधती हैं. वहीं, भाई अपनी बहनों को सामर्थ्‍य के अनुसार भेंट देकर उनकी रक्षा का वचन देते हैं. होली, दीपावली की तरह ही इस त्‍योहार को देश भर में परंपरऔर उत्‍साह के साथ मनाया जाता है.

रक्षाबंधन हिन्‍दू कैलेंडर के अनुसार हर साल श्रावण या सावन महीने की पूर्णिमा को मनाया जाता है. इस बार रविवार के दिन 26 अगस्‍त को रक्षाबंधन का त्‍योहार मनाया जाएगा.

हिन्‍दू धर्म में रक्षाबंधन का विशेष महत्‍व है. पुरातन काल से इस पर्व को मनाया जा रहा है. यह हिन्‍दुओं के प्रमुख त्‍योहारों में से एक है. यह ऐसा पर्व है जिसमें संवेदनाएं और भावनाएं कूट-कूट कर भरी हुईं हैं. 

यह इस पर्व की महिमा ही है जो भाई-बहन को हमेशा-हमेशा के लिए स्‍नेह के धागे से बांध लेती है. रक्षाबंधन भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक है. देश के कई हिस्‍सों में रक्षाबंधन को अलग-अलग तरीके से भी मनाया जाता है. 

महाराष्‍ट्र में सावन पूर्णिमा के दिन जल दवता वरुण की पूजा की जाती है. रक्षाबंधन को सलोनो नाम से भी जाना जाता है. मान्‍यता है कि इस दिन पवित्र नदी में स्‍नान करने के बाद सूर्य को अर्घ्‍य देने से सभी पापों का नाश हो जाता है. इस दिन पंडित और ब्राह्मण पुरानी जनेऊ का त्‍याग कर नई जनेऊ पहनते हैं. 

मान्‍यताओं के अनुसार रक्षाबंधन के दिन अपराह्न यानी कि दोपहर में राखी बांधनी चाहिए. अगर अपराह्न का समय उपलब्‍ध न हो तो प्रदोष काल में राखी बांधना उचित रहता है. भद्र काल के दौरान राखी बांधना अशुभ माना जाता है. यहां पर हम आपको इस साल राखी बांधने के सही समय के बारे में बता रहे हैं. राखी बांधने का 

समय: सुबह 5 बजकर 59 मिनट से शाम 5 बजकर 25 मिनट तक (26 अगस्‍त 2018)
अपराह्न मुहूर्त: दोपहर 01 बजकर 39 मिनट से शाम 4 बजकर 12 मिनट तक (26 अगस्‍त 2018)

पूर्णिमा तिथि प्रारंभ: दोपहर 03 बजकर 16 मिनट (25 अगस्‍त 2018)
पूर्णिमा तिथि समाप्‍त: शाम 05 बजकर 25 मिनट (26 अगस्‍त 2018)
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment