.....

पंजीबद्ध श्रमिकों को 2022 तक बनवा कर दिये जायेंगे पक्के मकान : CM शिवराज सिंह



भोपाल : मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने आज नीमच में आयोजित अंत्योदय मेले एवं बंगला बगीचा रहवासियों के पट्टा वितरण समारोह में कहा कि प्रदेश में असंगठित श्रमिकों को पंजीबद्ध करने के लिये एक से 14 अप्रैल तक प्रदेश-व्यापी अभियान चलाया जायेगा।

 मुख्यमंत्री असंगठित श्रमिक कल्याण योजना में पंजीबद्ध सभी श्रमिकों को वर्ष 2022 तक पक्के मकान बनवा कर दिये जायेंगे। श्री चौहान ने समारोह में 10 हजार 313 भू-अधिकार पट्टे, 1856 दखलरहित भू-अधिकार-पत्र तथा बंगला बगीचा के 200 रहवासियों को मालिकाना हक के पट्टे वितरित किये।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश दिये कि एक से 14 अप्रैल तक चलाये जाने वाले श्रमिक पंजीयन अभियान में सभी पात्र श्रमिकों का पंजीयन आवश्यक रूप से करवाया जाये।

 उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री असंगठित श्रमिक कल्याण योजना में 2.5 एकड़ से कम भूमिधारक श्रमिक भी अपना पंजीयन करवा सकेंगे। शर्त यह रहेगी कि वे आयकर दाता न हों। उन्होंने कहा कि इस योजना में पंजीबद्ध श्रमिकों को राज्य शासन की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत लाभान्वित किया जायेगा।

श्री चौहान ने कहा कि बंगला बगीचा समस्या का समाधान होने से मैं प्रसन्न हूँ। उन्होंने कहा कि नीमच की बंगला बगीचा समस्या अंग्रेजों के जमाने से चली आ रही थी, नीमच रहवासियों का हक जायज था। उन्होंने कहा कि सरकार ने इस समस्या का समाधान किया है।

अब यहाँ रहवासियों को उनके काबिज वाली जमीन के पट्टे प्रदाय किये जा रहे हैं, रहवासियों को उनकी जमीन का असली मालिक बनाया जा रहा है। श्री चौहान ने कहा कि सभी बंगला बगीचा वासियों को उनकी काबिज जमीन के पट्टे वितरित किये जायेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार ने डोडा चूरा जलाकर नष्ट करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार किसानों को आर्थिक नुकसान नहीं होने देगी।

 किसानों से डोडा चूरा खरीदा जायेगा और जिला कलेक्टर, जिला पुलिस अधीक्षक तथा जन-प्रतिनिधियों की समिति बनाकर डोडा चूरा के नष्टीकरण की कार्यवाही की जायेगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गेहूँ का समर्थन मूल्य 1735 रूपये प्रति क्विंटल तय किया गया है, 265 रूपये प्रति क्विंटल मध्यप्रदेश शासन की ओर से गेहूँ बेचने वाले सभी किसानों को दिए जाएंगे। इसके लिए समर्थन मूल्य पर गेहूँ बेचना जरूरी नहीं है, किन्तु पंजीयन कराना जरूरी है।

उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष जिन किसानों ने समर्थन मूल्य पर गेहूँ बेचा था, उनको भी 200 रूपये प्रति क्विंटल के मान से राशि प्रदाय की जाएगी। यह राशि 16 अप्रैल को किसानों के खातों में डाली जायेगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि चना, मसूर, सरसों की खरीदी 10 अप्रैल से 31 मई तक जारी रहेगी। उन्होंने बताया कि चना, मसूर और सरसों बेचने वाले किसानों को भी समर्थन मूल्य के अलावा 100 रूपये प्रति क्विंटल की राशि अलग से प्रदान की जाएगी।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment