PM मोदी ने नए साल पर गरीबों, किसानों और मध्यमवर्ग लोगों को दी सौगात


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नए साल से पहले शाम को देश को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने गरीबों, किसानों, मध्यमवर्ग लोगों आदि के लिए कई योजनाओं की घोषणा की।

 उन्होंने कहा कि देश ऐतिहासिक शुद्धि यज्ञ का गवाह बना है। देश ने उज्जवल भविष्य के लिए कष्ट झेला। दिवाली के तुरंत बाद हमारा देश शुद्धि यन्त्र बना है। 

दिवाली की बाद की घटनाओं से यह सिद्ध हो चुका है करोड़ों लोग घुटन से मुक्ति की तलाश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब हम कहते हैं कि, कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी, इस बात को देशवासियों ने जीकर दिखाया है।

 हर हिंदुस्तानी के लिए सच्चाई और अच्छाई अहमियत रखती है। गरीबी से बाहर निकलने को आतुर जिंदगी, भव्य भारत के निर्माण के लिए क्या कुछ नहीं कर सकती है।

पीएम ने कहा कि देशवासियों ने जो कष्ट झेला है, वो भारत के उज्जवल भविष्य के लिए नागरिकों के त्याग की मिसाल है। भ्रष्टाचार, कालाधन, जाली नोट के खिलाफ लड़ाई में एक कदम भी पीछे नहीं रहना चाहते हैं। आपका ये प्यार आशीर्वाद की तरह है।

बैंकिंग व्यवस्था पर बोलते हुए पीएम ने कहा कि इसे सामान्य करने पर ध्यान केंद्रित किया जाए। विशेषकर ग्रामीण इलाकों में, दूर-दराज वाले इलाकों में प्रो-एक्टिव होकर हर छोटी से छोटी कमी को दूर किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि आपको जानकर हैरानी होगी कि सरकार के पास दर्ज की गई जानकारी के हिसाब से देश में सिर्फ 24 लाख के करीब लोग यह स्वीकारते हैं कि उनकी सलाना आय दस लाख से ज्यादा है। 

उन्होंने कहा कि बड़े नोट महंगाई ला रहे थे, कालाबाजारी कर रहे थे और गरीबों का हक छीन रहे थे। प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि क्या आपको नहीं लगता कि देश की भलाई के लिए ईमानदारी के आंदोलन को और अधिक ताकत देने की जरूरत है? ये सरकार सज्जनों की मित्र है। उन्होंने कहा कि टेक्नोलॉजी ने भी काफी मदद की।

उन्होंने कहा कि बैंक कर्मचारियों ने भी देर रात तक रुक कर इस अभियान में शामिल रहे। पोस्ट ऑफिस में काम करने वाले और सभी लोगों ने सराहनीय काम किया।

 हालांकि, कुछ बैंकों के लोगों ने गंभीर अपराध में शामिल होकर गंभीर अपराध किए। इन्हें बख्शा नहीं जाएगा।  देश के सभी बैंकों से आग्रहपूर्वक कहना चाहता हूं कि बैंक गरीबों, मध्यमवर्ग को केंद्र में रखकर कार्य करें।

उन्होंने कहा कि सरकार कुछ नई योजनाएं ला रही है। स्वतंत्रता के इतने सालों बाद भी देश के कई गरीबों के पास जरूरतमंद चीजें नहीं है। गरीब, मध्यमवर्ग के लोग घर खरीद सके, इसके लिए बड़े फैसले लिए गए हैं। इन लोगों के लिए दो बड़ी स्कीमें बनाई गई हैं। 

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 2017 से 9 लाख रुपये तक के कर्ज पर चार प्रतिशत तक छूट और 12 लाख पर तीन प्रतिशत की छूट दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि पिछले साल की तुलना में इस वर्ष रबी की बुवाई 6 प्रतिशत ज्यादा हुई है। सरकार ने इस बात का ध्यान रखा है कि किसानों को दिक्कत न आए।

 उनके हित में कई फैसले किए गए हैं। कॉपरेटिव बैंक और ग्रामीण से किसानों को और कर्ज मिल सके, इसके लिए कई काम किए गए हैं।

पीएम ने आगे कहा कि अगले तीन महीने में 3 करोड़ किसान क्रेडिट कार्डों को RUPAY कार्ड में बदला जाएगा। मुद्रा योजना पर बोलते हुए पीएम ने कहा कि पिछले साल साढ़े तीन करोड़ लोगों ने इसका फायदा उठाया है।

 सरकार का अब इसे डबल करने का इरादा है। उन्होंने कहा कि मैं माता-बहनों से कहना चाहता हूं कि गर्भवती महिलाओं के लिए भी एक योजना की शुरूआत होने जा रही है। 

सरकार ऐसी महिलाओं को अस्पताल में पंजीकरण, पौस्टिक आहार आदि के लिए छह हजार करोड़ रुपये की मदद करेगी। इसके लिए ये राशि सीधे उनके खाते में जाएगी।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment