कॉल ड्रॉप : मोबाइल कंपनियों को अंतिम चेतावनी


देश में मोबाइल टावरों की संख्या कम होने की वजह से काल ड्रॉप की समस्या हो रही है। लिहाजा सरकार ने मोबाइल सेवा देने वाली कंपनियों को एक लाख मोबाइल टावर लगाने का निर्देश दिया था।
टावर निर्धारित लक्ष्य से पहले लगा दिए गए लेकिन कॉल ड्रॉप की समस्या से ग्र्राहकों को निजात नहीं मिली। आज इस मुद्दे पर संचार मंत्री मनोज सिन्हा ने मोबाइल कंपनियों की जमकर क्लास ली।
 इन्हें यहां तक धमकी दी गई कि अगर कॉल ड्रॉप की समस्या का समाधान नहीं हुई तो कंपनियों के खिलाफ अन्य कार्रवाई करने में कोई हिचक नहीं होगी।
सिन्हा और मोबाइल कंपनियों के बीच मंगलवार को हुई बैठक खासी हंगामेदार रही। सिन्हा ने बाद में बताया कि कॉल ड्रॉप की समस्या के बारे में सीधे बताने के लिए एक नया प्लेटफार्म बनाया जा रहा है जहां ग्राहक अपनी समस्या के बारे में बता सकेंगे। इससे कंपनियों पर दबाव बनाने में आसानी होगी।
बैठक में मनोज ने कंपनियों से पूछा कि अभी तक वह टावर नहीं होने का बहाना बनाते थे लेकिन अब तो टावर भी लग गये फिर काल ड्रॉप क्यों हो रही हैं। 
कुछ कंपनियों ने जब कहा कि लोग टावर लगाने की राह में स्वास्थ्य वजहों का बना कर रोड़ा डालते हैं तो सिन्हा ने उनसे पूछा कि कंपनियों ने आम जनता को इस बारे में जागरूक करने के लिए क्या किया है।
इसका कोई जवाब कंपनियों के पास नहीं था। सिन्हा ने कहा कि जब आप अपनी ब्रांडिंग के लिए अरबों रुपये के विज्ञापन दे सकते हैं तो फिर अपने ही कारोबार से जुड़े मुद्दों के बारे में जागरूकता फैलाने वाले विज्ञापन क्यों नहीं दिखा सकते।

Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment