मोबाइल पास रखकर सोना भी स्वास्थ्य के लिए बेहद नुकसानदायक

मोबाइल से हाय एनर्जी विजिबल लाइट (एचर्इवी) या ब्लू लाइट निकलती है जो कि आंखों के लिए बेहद नुकसानदायक होती है। 

असल में एक लैब स्टडी के दौरान इस लाइट के एक्सपोजर के बाद आंखों की कोशिकाआें में बदलाव देखने को मिला था इसलिए वैज्ञानिक इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि रात के अंधेरे में मोबाइल स्क्रीन को नहीं देखना चाहिए। 

एचर्इवी लाइट आपके घर की एलर्इडी लाइट आैर सूरज की रोशनी में भी मौजूद होती है लेकिन मनुष्य का इनसे ज्यादा देर तक वास्ता नहीं पड़ता है इसलिए इनसे नुकसान भी कम होता है।

 एक्सपर्ट बताते हैं कि इस आदत के कारण आंखों में कोर्इ गंभीर परमानेंट लाॅस तो नहीं होता लेकिन इससे आंखे बेहद थक अवश्य जाती हैं। 

अगर आपको एेसा कोर्इ लक्षण नजर आता है तो तुरंत डाॅक्टर को दिखाएं क्योंकि इलाज न मिलने की सूरत में आंखों की कोर्इ भी गड़बड़ी अापकी समस्या को आैर बढ़ाएगा। 

एक्सपर्ट की राय है कि मोबाइल स्क्रीन या टीवी स्क्रीन या फिर कंप्यूटर स्क्रीन को देखते समय हर 20 मिनट में 20 सेकंड तक 20 फीट दूरी पर रखी किसी चीज को देखें। इससे आपकी आंखों को रिलेक्स होने का भरपूर मौका मिलता है। 

इसी तरह रात को सोते समय मोबाइल पास रखकर सोना भी आपके स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ होगा क्योंकि इसमें से खतरनाक इलैक्ट्रोमैग्नेटिक विकिरण निकलते हैं जो कि आपकी सांस के साथ शरीर में प्रवेश करेेंगी।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment