.....

ढाका में IS का हमला, बंधक संकट खत्म, PM हसीना बोलीं-रमजान में हत्याएं करने वाले मुस्लिम नहीं

ढाका. ढाका के रेस्टोरेंट में चल रहा ऑपरेशन खत्म हो गया है. इसके साथ ही कुल 13 बंधकों को मुक्त करा लिया गया है. हालांकि, कितने बंधकों को किस तरह की चोटें आई हैं इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी जा रही है. इसके साथ ही  अभी सभी का इलाज किया जा रहा है. कुछ मुक्त कराए गए लोगों के परिजन भी वहां पहुंच गए हैं. पूरे इलाके में सघन तलाशी अभियान चलाया जा रहा है.

बांग्लादेश की राजधानी ढाका में 26/11 जैसा हमला हुआ है। शुक्रवार रात यहां के पॉश इलाके गुलशन डिप्लोमेटिक जोन की एक बेकरी में 9 आतंकियों ने हमला कर 40 लोगों को बंधक बना लिया। 

इनमें से ज्यादातर विदेशी हैं। एक भारतीय लड़की के भी वहां होने की खबर है। शनिवार सुबह शुरू किया गया कमांडो ऑपरेशन जारी है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, 18 होस्टेज को छुड़ाया जा चुका है।

 खबर है कि 6 आतंकी मारे गए हैं जबकि एक को जिंदा पकड़ा गया है। हमले की जिम्मेदारी आईएस और अल कायदा दोनों ने ली है। बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना ने कहा है कि ये कैसे मुस्लिम हैं जो रमजान के दौरान हत्याएं कर रहे हैं।कहा- ऑपरेशन चल रहा है। रमजान के दौरान यह इंसानियत पर हमला।

सूत्रों के मुताबिक, 18 होस्टेज को छुड़ाया जा चुका है। ढाका की सड़कों पर बख्तरबंद गाड़ियों के साथ आर्मी तैनात। तीन आतंकियों के फरार होने की खबर।बांग्लादेश सरकार ने शनिवार सुबह ऑर्डर जारी कर ढाका के सभी ऑफिसों को बंद रखने को कहा है।बांग्लादेश सरकार सुबह 10 बजे इस हमले पर जानकारी देने के लिए प्रेस कांफ्रेस करने वाली थी।

 इसे बिना कोई वजह बताए कैंसल कर दिया गया। इसकी अगली टाइमिंग भी नहीं बताई गई है।जानकारी के मुताबिक, बांग्लादेश सरकार ने भारतीय विदेश मंत्रालय से बातचीत की है। होम मिनिस्ट्री में हो सकती है मीटिंग।

 40 से ज्यादा होस्टेज थे, सिर्फ 13 छुड़ाए गए हैं। बाकी पर अब भी खतरा है। इन लोगों की जान बचाने की कोशिश में ऑपरेशन लंबा चल रहा है। सरकार पर विदेशियों की जान बचाने का प्रेशर है। इसलिए कोई बड़ा रिस्क नहीं ले लिया जा सकता।

रैपिड एक्शन फोर्स के कर्नल काजी मोहम्मद के मुताबिक, ये खबर सही नहीं है कि ऑपरेशन खत्म हो गया है। एक चैनल से उन्होंने कहा- कुछ जगहों की लाइट बंद की गई है। कुछ फोन कॉल्स इंटरसेप्ट की गई हैं। आतंकियों की संख्या 10 से ज्यादा है। सिविलियन भी 40 से ज्यादा थे। इनमें रेस्त्रां का स्टाफ शामिल नहीं है।

रेस्टोरेंट में तीन बम डिफ्यूज किए गए। गोलीबारी तेज होने की खबर। आईविटनेस ने कहा- 9 से ज्यादा आतंकी थे। तीन ग्रुप्स में घुसे थे। कुछ बांग्लादेश की भाषा नहीं बोल रहे थे। वो शायद विदेशी थे।

बांग्लादेश आर्मी के लेफ्टिनेंट कर्नल तहसीन अहमद ने कहा- 13 लोगों को छुड़ाया गया है। कुछ लोगों को गोलियां लगीं हैं। कुछ लाशें बरामद हुई हैं। इनके बारे में जानकारी देना फिलहाल, ठीक नहीं होगा।रेस्टोरेंट के अंदर दो बड़े धमाकों की आवाज। कमांडोज ने 6 लाशें बाहर निकालीं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इंडियन होम मिनिस्ट्री ने बांग्लादेश में भारतीय उच्चायोग से घटना की पूरी जानकारी तलब की है।
खबरों के मुताबिक, 9 बंधकों को छुड़ा लिया गया है। जिंदा आतंकी से किसी सीक्रेट लोकेशन पर पूछताछ।
बांग्लादेश के एक बड़े अफसर ने नाम न बताए जाने की शर्त पर कहा- बंधकों की संख्या 30 नहीं 41 है। इसमें कुछ भारतीय भी हैं।
 बांग्लादेश की वेबसाइट डेलीस्टार के मुताबिक, आतंकियों ने सरकार की तरफ से बातचीत के प्रस्ताव का कोई जवाब नहीं दिया। माना जा रहा है कि आतंकी सुसाइड बाम्बर हैं और उनका मकसद सिर्फ लोगों को मारना है।  आतंकी इस डिप्लोमैटिक जोन में किसी एम्बेसी को निशाना बनाना चाहते हैं।

 आतंकियों को किसी तरह की पब्लिसिटी न मिले या वो फोर्सेस के मूवमेंट को न समझ पाएं, इसके लिए बांग्लादेश में इस घटना की मीडिया कवरेज पर रोक लगा दी गई है। 

 मोदी के मंत्री राज्यवर्धन सिंह ने कहा है कि बंधक बनाए गए लोगों की नेशनलिटी पब्लिक न की जाए। भारत में रह रही बांग्लादेशी राइटर तस्लीमा नसरीन के मुताबिक, बंधकों में एक भारतीय लड़की भी है। नसरीन के मुताबिक, इस लड़की की फैमिली ने खुद उन्हें इस बारे में जानकारी दी है।

 ढाका के गुलशन डिप्लोमेटिक जोन स्थित होली आर्टिशन बेकरी रेस्टोरेंट में शुक्रवार रात 8 से 10 हथियारबंद हमलावरों ने हमला बोल दिया। 30 से ज्यादा विदेशियों व कई डिप्लोमैट्स को बंधक बनाए जाने की खबर मिली। हमले में दो इटैलियन और दो पुलिसकर्मी मारे गए। 30 से ज्यादा जख्मी हैं।

 बांग्लादेशी मीडिया खुफिया सूत्रों के हवाले से कह रहा है कि आईएसआईएस ने हमले की जिम्मेदारी ले ली है। हालांकि, कुछ खबरों में कहा गया है कि बांग्लादेश में अल कायदा की लोकल बॉडी ने हमले की जिम्मेदारी ली है।

 
बता दें कि आईएस का हाथ इसलिए भी होने की आशंका है क्योंकि पिछले कुछ दिनों से बांग्लादेश में उसकी मौजूदगी की बातें सामने आई हैं। 
आईएस ने इस तरह के हमलों की चेतावनी भी दी थी। शुक्रवार को सुबह एक हिंदू पुजारी की भी हत्या कर दी गई थी।
यह बंगलादेश के लिए बिलकुल नया अनुभव है, बांग्लादेशी पुलिस इस तरह की घटना के लिए ट्रेंड नहीं है, इस वजह से ऑपरेशन में कई दिक्कतें आ रही हैं।

 विटनेस ने बताया, करीब 8.45 बजे कई हथियारबंद लोग “अल्लाह-ओ-अकबर ‘ बोलते हुए रेस्टोरेंट में घुस गए और चीफ शेफ सहित सबको बंधक बना लिया।

 पुलिस व हमलावरों के बीच फायरिंग शुरू हुई। इस इलाके में 34 देशों की एंबेसी हैं। पुलिस व रैपिड एक्शन बटॉलियन ने रेस्टोरेंट को घेर लिया।रेस्टोरेंट का मालिक सुमन रजा वहां से भागने में कामयाब रहा।

 सुमन रजा ने मीडिया को बताया, जब हमला हुआ था तो रेस्त्रां में ज्यादातर लोग इटली और अर्जेंटीना के थे।
उधर, अमेरिका और ब्रिटेन ने अपने नागरिकों को ढाका के गुलशन इलाके से दूर रहने की एडवाइजरी जारी की है।

इस इलाके में करीब 34 देशों की एंबेसी है। ढाका का हाई सिक्युरिटी जोन है यह इलाका। ढाका के फेमस होटल और रेस्टोरेंट इसी इलाके में हैं। विदेशी यहां रुकना और खाना पसंद करते हैं। जहां हमला हुआ है वहां से सिर्फ एक किमी दूर ही है भारत की एंबेसी।
हमलावर कौन हैं और उनका मकसद क्या है, अभी इस बात का खुलासा नहीं हो पाया है।ढाका में स्थिति काफी तनावपूर्ण है और राजधानी में हाई अलर्ट कर दिया गया है।

Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment