.....

चमोली जिले में भारत की सीमा में चीनी सैनिक ने की घुसपैठ

चीन के सैनिकों ने पिछले दिनों उत्तराखंड क्षेत्र के चमोली जिले में भारत की सीमा में घुसपैठ की। हथियारों से लैस इन सैनिकों को इलाके में डेरा डाले देखा गया जबकि दोनों देशों के बीच इस क्षेत्र को विसैन्यीकत रखने पर सहमति है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने इस घटना को चिंता का विषय करार देते हुए उम्मीद जताई है कि केंद्र सरकार सीमा पर निगरानी बढ़ाने के उनके अनुरोध पर ध्यान देगी। 

दूसरी ओर, केंद्रीय गह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि आईटीबीपी को मामला देखने के लिए कहा गया है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि यह घटना 19 जुलाई को उस वक्त हुई जब भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के अधिकारियों सहित कुछ अन्य की टीम चमोली के जिलाधिकारी की अगुवाई में बाराहोटी मैदान का निरीक्षण करने गई थी।
सूत्रों ने बताया कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिकों ने चमोली के जिलाधिकारी की अगुवाई में गई टीम को यह कहते हुए वापस भेज दिया कि यह उनका इलाका है । 

करीब 80 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में फैला बाराहोटी मैदान 1957 से ही दोनों देशों द्वारा एक विवादित भाग माना जाता रहा है। इस विवाद को दोनों पक्षों द्वारा वार्ता के जरिए सुलझाए जाने पर सहमति बनी थी।

सूत्रों ने कहा कि पिछले कुछ सालों से चीनी सैनिकों को इस इलाके में देखा जाता रहा है और कई बार उन्होंने वायु सीमा का भी उल्लंघन किया है।

 चीनी पक्ष ने अपने भारतीय समकक्षों के साथ वार्ता के लिए 19 अप्रैल 1958 को एक प्रतिनिधिमंडल भेजा था। दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हुए थे कि वे इस इलाके में अपने सैनिक नहीं भेजेंगे, लेकिन उन्होंने बराहोटी मैदान के मसले को हमेशा के लिए निपटाने पर चर्चा से परहेज किया था।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment