.....

पीएम नरेंद्र मोदी ने चेन्नई को दी 31500 करोड़ रुपए की सौगात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को चेन्नई के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में बैंगलोर-चेन्नई एक्सप्रेसवे सहित 31,500 करोड़ रुपए से अधिक की 11 परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। इन परियोजनाओं में रेलवे, पेट्रोलियम, आवास और सड़कों जैसे प्रमुख बुनियाजी क्षेत्र शामिल हैं। इस मौके पर तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन भी मौजूद थे। पीएम मोदी ने लाइट हाउट प्रोजेक्ट के तहत निर्मित 1152 घरों का उद्घाटन किया। प्रधानमंत्री आवास योजना-शहरी के तहत 116 करोड़ रुपए की लागत से इस परियोजना का निर्माण किया गया है।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ये जगह स्पेशल है और यहां के लोग, यहां की संस्कृति और यहां की भाषा अद्भुत है। हाल ही में मैंने अपने आवास पर भारतीय मूक बधिर ओलंपिक में हिस्सा लेने वाले दल की मेजबानी की। इस बार टूर्नामेंट में भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा। हमने 16 पदक जीते हैं, उनमें से 6 पदकों में तमिलनाडु के युवाओं की भूमिका रही है।'

उन्होंने कहा कि हम यहां तमिलनाडु की विकास यात्रा का जश्न मनाने के लिए एकत्र हुए हैं। 31,000 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं का उद्घाटन या शिलान्यास हो रहा है। जिसमें सड़क निर्माण के क्षेत्र पर ध्यान स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहा है। पीएम मोदी ने कहा, 'मैं उन सभी लोगों को बधाई देना चाहता हूं, जिन्हें आवास योजना के अंतर्गत ऐतिहासिक चेन्नई लाइट हाउस प्रोजेक्ट के तहत घर मिलेगा। यह हमारे लिए एक संतोषजनक प्रोजेक्ट रहा है।'

प्रधानमंत्री ने कहा कि पांच रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास किया जा रहा है। यह आधुनिकीकरण और विकास भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखकर किया जा रहा है। साथ ही स्थानीय कला और संस्कृति में भी विलीन हो जाएगा। उन्होंने कहा, 'मल्टी-मोडल लॉजिस्टिक पार्क हमारे देश में माल ढुलाई के पारिस्थितिकी तंत्र में एक आदर्श बदलाव होगा। विभिन्न क्षेत्रों में इनमें से प्रत्येक परियोजना रोज़गार सृजन और आत्मनिर्भर बनने के हमारे संकल्प को बढ़ावा देगी।'

पीएम मोदी ने आगे कहा कि कुछ साल पहले इंफ्रास्ट्रक्चर में सड़क, बिजली और पानी के संदर्भ में बात की जाती थी। आज हम भारत के गैस पाइपलाइन नेटवर्क का विस्तार करने के लिए काम कर रहे हैं। आई-वे पर काम हो रहा है, हाई स्पीड इंटरनेट को हर गांव तक पहुंचाना हमारा विजन है। श्रीलंका मुश्किल दौर से गुजर रहा है। एक घनिष्ठ मित्र और पड़ोसी देश के रूप में भारत श्रीलंका को हर संभव सहायता प्रदान कर रहा है।

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment