सोशल इमरजेंसी जैसे देश के हालात, हर जिंदगी बचाना प्राथमिकता - पीएम मोदी


नई दिल्ली ! प्रधानमंत्री ने कहा है कि कोरोना वायरस की वजह से पैदा हुए संकट के दौर में एक-एक जिंदगियां बचाना सरकार की प्राथमिकता है. पीएम मोदी ने कहा है कि कोरोना संक्रमण की वजह से देश के हालात अभी सोशल इमरजेंसी जैसे हैं,


इस वजह से सरकार कुछ कठिन फैसले लेने पर मजबूर हुई है. इस वक्त में हमें सतर्क रहने की जरूरत है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कोरोना वायरस पर राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ बैठक की और कोरोना वायरस के संक्रमण से उपजे हालात पर चर्चा की.
राजनेताओं के साथ बातचीत के बारे में बताते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज की चर्चा संरचनात्मक और सकारात्मक राजनीतिक को दिखाती है. प्रधानमंत्री ने कहा कि राज्यों, जिला प्रशासन और विशेषज्ञों ने सुझाव दिया है कि कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए लॉकडाउन का विस्तार किया जाए. इस दौरान नेताओं ने लॉकडाउन पर अपने सुझाव, फीडबैक पीएम मोदी को दिए और आगे की रणनीति की चर्चा की. बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में राजनीतिक दलों के नेताओं से आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की.
 मौजूदा घटनाक्रम मानवता के इतिहास को बदलने वाला
पीएम नरेंद्र मोदी न कहा कि पूरी दुनिया कोविड-19 के गंभीर चुनौती से जूझ रही है. उन्होंने कहा कि मौजूदा घटनाक्रम मानवता के इतिहास को बदलने वाला है और हमें इसका मुकाबला करने के लिए अपने आप को तैयार करना होगा. पीएम मोदी ने राज्य सरकारों की कोशिशों की सराहना की. पीएम मोदी ने कहा कि भारत दुनिया के उन चंद देशों में है, जहां इस वायरस को अबतक नियंत्रण में रखने में कामयाबी मिली है. उन्होंने आगाह किया कि स्थितियां बदलती रहती है और लोगों को सतर्क रहने की जरूरत है.

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment