सीएम कमलनाथ ने 71वें गणतंत्र दिवस पर इंदौर में किया ध्वजारोहण


इंदौर! 71वें गणतंत्र दिवस के मौके पर मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने इंदौर के नेहरू स्टेडियम में ध्वजारोहण किया. इस मौके पर लोगों को संबोधित करते हुए मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने कहा का मेरी सरकार को खाली खजाना मिला था और जीएसटी  के चलते केंद्र से भी कम पैसा मिला, बावजूद इसके पिछले 1 साल में हमने 365 वचनों को पूरा किया है और आगे भी जनता से किए वादों को पूरा करते रहेंगे.

सीएम कमलनाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश में 70 फीसदी किसान रहते हैं. पिछले 1 साल में हमने 20 लाख किसानों का कर्ज माफ किया है. सरकार की कोशिश है कि किसानों को उनकी फसल का पूरा दाम मिले. सरकार ने फसलों के भंडारण की नई योजना की शुरुआत की गई है, इसके तहत 30 लाख मीट्रिक टन भंडारण के वेयर हाउस बनाने का लक्ष्य रखा गया है.
उन्‍होंने कहा कि प्रदेश के 1 करोड़ लोगों को इंदिरा गृह ज्योति योजना के तहत सस्ती बिजली का लाभ मिल रहा है. हम प्रदेश औद्योगिक निवेश के लिए बेहतर माहौल बना रहे हैं, इसलिए हमने औद्योगिक नीति में सुधार किया है. प्रदेश में उद्योगों की स्थापना के लिए अब नया कानून लाया जा रहा है, जिसमे 7 दिन में सभी अनुमतियां मिलेगी. उन्‍होंने कहा कि 7 दिन में अनुमति न मिलने पर उसे अनुमति मान लिया जाएगा.
आदिवासियों के विकास को प्राथमिकता
सीएम कमलनाथ ने कहा कि जब तक विकास आदिवासियों तक नहीं पहुंचेगा, तब तक प्रदेश का विकास नहीं होगा. ऐसे में हमने आदिवासियों के हित में कई बड़े कदम उठाए हैं. प्रदेश में 40 नदियों के तट पर वृक्षारोपण किया जाएगा. वहीं नई आवासीय योजना के तहत अब बेघरों को 15 साल तक किराए पर मकान दिए जाएंगे,  उसके बाद मकान का मालिकाना हक उन्हीं को दे दिया जाएगा.
2015 के बाद नहीं हुई डॉक्‍टर्स की भर्ती
सीएम कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश में डॉक्टर्स की कमी प्रमुख समस्या है. डॉक्टरों की भर्ती 2015 के बाद नहीं हुई, इस कारण जिला मुख्यालय के बाहर के अस्पतालों में कठिनाई होती है. उन्‍होंने कहा कि इस समस्‍या को दूर करने के लिए मेडिकल कॉलेज खोले जा रहे हैं. अब तक, सात नए मेडिकल कॉलेज खोले जा चुके हैं और 6 नए मेडिकल कॉलेजों की स्वीकृत किए गए हैं. एमबीबीएस और पीजी में पढ़ने वाले छात्रों के लिए ग्रामीण सेवा अनिवार्य की गई है.

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment