.....

इमरान ने POK में रैली कर लोगों को खुलेआम घुसपैठ के लिए उकसाया

इस्लामाबाद : पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने शुक्रवार को POK की राजधानी मुजफ्फराबाद में रैली कर भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ जमकर जहर उगला। उन्होंने इस्लाम का वास्ता देकर खुलेआम POK के युवाओं को घुसपैठ के लिए उकसाया। उन्होंने कहा कि POK के युवा एलओसी की तरफ जाना चाहते हैं लेकिन अभी मत जाइए, कब जाना है यह बताऊंगा। 

हालांकि, इमरान की यह रैली पूरी तरह फ्लॉप रही। POK के पॉलिटिकल ऐक्टिविस्ट अमजद अयूब मिर्जा ने बताया कि रैली पूरी तरह फ्लॉप रही। लोगों को रावलपिंडी और ऐबोटाबाद से ट्रकों में भर-भरकर रैली में लाया गया था। इमरान ने खुलेआम पीओके के युवाओं को इस्लाम के नाम पर घुसपैठ के लिए उकसाया। इमरान ने कहा, 'मुझे आपके जज्बे का पता है कि आप लाइन ऑफ कंट्रोल की तरफ जाना चाहते हैं।

 नौजवानों मुझे पता है आपमें जज्बा और जुनून है। लेकिन अभी लाइफ ऑफ कंट्रोल की तरफ नहीं जाना, जब तक मैं आपको नहीं बताऊंगा... मैं आपको बताऊंगा कब जाना है, अभी नहीं आपको जाना है। पहले मुझे यूनाइटेड नेशन्स जाने दो। दुनिया के लीडर्स को बताने दो। कश्मीर का केस लड़ने दो। कश्मीर का मसला हल नहीं किया, तो इसका असर पूरी दुनिया पर जाएगाा'


इमरान ने बड़े जलसे का ऐलान किया था, लिहाजा भीड़ को दिखाने के लिए पाकिस्तान के अलग-अलग हिस्सों से लोगों को ट्रकों में भर-भरकर रैली में लाया गया था। इसकी पोल खोलते हुए POK के पॉलिटिकल ऐक्टिविस्ट अमजद अयूब मिर्जा ने कहा कि इमरान की रैली पूरी तरह फ्लॉप रही है और POK के लोगों ने इसका बहिष्कार किया है।

 मिर्जा ने ANI को बताया, 'मुजफ्फराबाद में इमरान की रैली फ्लॉप रही है। रैली के लिए ऐबोटाबाद और रावलपिंडी से लोगों को ट्रकों में भरकर लाया गया। POK के लोगों ने रैली का पूरी तरह बहिष्कार किया। इसके लिए दुनिया को यहां के लोगों को बधाई देनी चाहिए।'

जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के भारत के आंतरिक मामले को लेकर अंतरराष्ट्रीय मंचों पर रोना रोने वाला पाकिस्तान समर्थन नहीं मिलने से हताश हो सांप्रदायिक कार्ड खेल रहा है। इमरान ने आरोप लगाया कि पीएम नरेंद्र मोदी की योजना भारत से मुस्लिमों के 'नस्लीय सफाए' की है। हर तरफ से निराशा के बाद मुस्लिम कार्ड खेलते हुए पाकिस्तानी पीएम ने कहा कि दुनियाभर के 1.2 अब मुसलमान कश्मीर के हालात देख रहे हैं।

रैली में इमरान ने दावा किया कि कश्मीर मुद्दा अब अंतरराष्ट्रीय मुद्दा बन गया है और पाकिस्तान को इस पर खूब समर्थन मिल रहा है। बता दें कि इमरान खान कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय समुदाय के समर्थन का झूठा दावा करते आए हैं। इस वजह से वह हंसी के पात्र भी बनते रहे हैं। एक दिन पहले ही उन्होंने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) में 58 देशों के समर्थन का दावा किया था, जबकि सिर्फ 47 देश UNHRC के सदस्य हैं। भारत के अंदरूनी मामले को वैश्विक मंचों पर उठाने की पाकिस्तान की नाकाम कोशिशों में उसे सिर्फ चीन का साथ मिला है। इस मुद्दे पर वह दुनियाभर में अलग-थलग पड़ चुका है, जिससे उसकी हताशा बढ़ती ही जा रही है।

खुद को दुनिया में 'कश्मीर का राजदूत' बताते हुए इमरान खान ने कहा कि वह संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में जम्मू-कश्मीर में लोगों पर हो रहे कथित जुल्म का मुद्दा उठाएंगे। पाकिस्तानी पीएम ने कहा, 'आप सभी इंतजार करें। अगले हफ्ते मैं न्यू यॉर्क में यूएन के जनरल असेंबली में जा रहा हूं। मैं कश्मीरियों को निराश नहीं करूंगा। मैं कश्मीरियों के लिए वो स्टैंड लूंगा जो आजतक कभी भी कश्मीरियों के लिए वैसे खड़ा नहीं हुआ होगा, जितना मैं खड़ा रहूंगा।' प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जर्मन तानाशाह हिटलर से तुलना करते हुए पाकिस्तानी पीएम ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में 9 लाख भारतीय सैनिक स्थानीय लोगों पर 'अत्याचार' कर रहे हैं।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment