दाल पका सकते हैं, मुश्किल होता है चपाती बनाना : ओबामा

नई दिल्ली : अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि भारत की मुसलमान आबादी संगठित है और खुद को भारतीय मानती है।
 इसलिए भारत को अपनी मुस्लिम आबादी को साथ लेकर चलना चाहिए और उनका बड़े दुलार से पालन-पोषण करना चाहिए। वह मानते हैं कि धार्मिक सहिष्णुता पर भी जोर दिए जाने की जरूरत है।
राष्ट्रपति पद से मुक्त होने के बाद पहली बार भारत दौरे पर आए ओबामा ने शुक्रवार को एक अंग्रेजी अखबार के सम्मेलन में कहा कि भारत को इस विचार को मजबूती से अमल में लाने की जरूरत है। 
उन्होंने कहा कि 2015 में अपनी पिछली भारत यात्रा के दौरान भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बंद कमरे में हुई बातचीत में उन्होंने धार्मिक सहिष्णुता और अपने धर्म का पालन करने के अधिकार पर बल दिया था।
वर्ष 2009 से 2017 तक 44वें अमेरिकी राष्ट्रपति रहे ओबामा ने कहा कि हमेशा ही हर वक्त एक विरोधी बयान आ रहा है। लेकिन अब वह यूरोप, अमेरिका और कुछ दफा भारत में अधिक मुखर है। कुछ आदिवासी पुरातन विचार कुछ नेताओं की शह पर जोर पकड़ते हैं, फिर पीछे हट जाते हैं।
भारत संबंधी एक सवाल पर उन्होंने कहा कि भारत में असंख्य मुस्लिम आबादी है, जो अधिक सफल, एकजुट है और खुद को भारतीय मानती है। लेकिन दुर्भाग्यवश कुछ अन्य देशों में ऐसा नहीं है।
पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि अमेरिका के पास इस बात का कोई सुबूत नहीं है कि पाकिस्तान को 9/11 के मास्टरमाइंड ओसामा बिन लादेन के पाकिस्तान में होने की कोई जानकारी थी। 
उन्होंने कहा कि जब मुंबई में 2008 के नवंबर महीने में हमला हुआ तो भारत की ही तरह अमेरिका भी आतंकी नेटवर्क को खत्म करने के लिए उतावला था। भारत सरकार की मदद के लिए तब अमेरिकी खुफिया अधिकारियों को नियुक्त किया गया था।
बराक ओबामा ने मजाकिया अंदाज में कहा कि वह पहले अमेरिकी राष्ट्रपति हैं, जिसे दाल बनाने की विधि पता है। यह भारतीय व्यंजन हर घर की जान है।
 उन्होंने बताया कि पिछली रात जिस वेटर ने उन्हें दाल परोसी, उसने उन्हें उसे बनाने की विधि भी बतायी। तब उन्होंने उस वेटर को बताया कि उसे विधि बताने की जरूरत नहीं क्योंकि उन्हें पता है कि दाल कैसे बनती है।
इस बातचीत के बीच उन्होंने इंटरव्यू ले रहे करन थापर को बताया कि वह कीमा भी अच्छा बना लेते हैं और उनका चिकन भी ठीक-ठाक है। जब करन थापर ने उनसे पूछा कि क्या वह रोटी भी बना लेते हैं, तो उन्होंने कहा कि वह नहीं बना पाते। रोटी बनाना मुश्किल है।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment