CM शिवराज सिंह ने कहा- MP के स्कूलों में बच्चों को पढ़ाएंगे रानी पद्मावती का इतिहास

उज्जैन : देशभर में फिल्म पद्मावती के विरोध के बाद मध्यप्रदेश सरकार रानी पद्मावती का इतिहास स्कूलों में पाठ्यक्रम के माध्यम से पढ़ाएगी। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने बुधवार को उज्जैन में आयोजित अभिनंदन समारोह में यह घोषणा की।
फिल्म पद्मावती पर प्रतिबंध लगाने के बाद मुख्यमंत्री चौहान ने अगले साल से प्रदेश के सभी स्कूलों में पद्मावती का पाठ पाठ्यक्रम में शामिल करने का ऐलान कर दिया है। 
राजपूत समाज द्वारा आयोजित अभिनंदन समारोह में मुख्यमंत्री चौहान ने कहा- राजपूतों की राष्ट्रभक्ति उल्लेखनीय रही है और उनका योगदान अतुलनीय रहा है। चित्तौड़ की कथाएं सुनते हैं तो रोमांचित हो जाते हैं।
इसके पूर्व नानाखेड़ा स्टेडियम में मुख्यमंत्री ने किसानों के बीच कहा- राष्ट्रमाता पद्मावती की फिल्म को प्रदेश में प्रतिबंधित किया है, क्योंकि सच्चा इतिहास नहीं दिखाया जा रहा। भारत के महापुरुषों का अपमान किसी कीमत पर नहीं होने देंगे।
किसान सम्मेलन में किसानों को भावांतर भुगतान राशि के प्रमाणपत्र व कृषक सहकारी ऋण मित्र सम्मान प्रशस्ति पत्र भेंट किए। जिले के 5 किसानों को प्रतीकात्मक तौर पर भावांतर के प्रमाणपत्र प्रदान किए। 
महाकाल मंदिर में मुख्यमंत्री ने दिव्यांग पथ का शुभारंभ किया और सभामंडप के पुननिर्माण कार्य का भूमिपूजन भी किया।
मुख्यमंत्री ने हर नगरीय निकाय में किसान बाजार बनाने की घोषणा भी की। बोले- बिचौलियों के कारण किसानों को फसल का पूरा फायदा नहीं मिल पाता। इसके लिए हर निकाय में किसान बाजार बनाया जाएगा, जहां किसान सीधे उपभोक्ताओं को फसल बेच सकेंगे। प्रदेश में 378 किसान बाजार बनाए जाएंगे।
सरकार ने कृषक उद्यमी योजना भी तैयार की है। जो किसान पुत्र छोटा उद्योग लगाना चाहते हैं या कृषि उपकरण बनाना चाहते हैं, उनको 10 लाख से 2 करोड़ रुपए की राशि दी जाएगी। 
सरकार इसके लिए ऋण की गारंटी देगी। 1 करोड़ रुपए के कर्ज पर 15 लाख व दो करोड़ के कर्ज पर 30 लाख रुपए का अनुदान दिया जाएगा। पांच साल तक पांच प्रतिशत ब्याज दर लगेगी। प्रदेश की धरती पर लघु व कुटीर उद्योगों का जाल बिछाया जाएगा।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment