"दिल से": CM शिवराज सिंह ने युवाओं से कहा- सफल नहीं, सार्थक जीवन जरूरी

भोपाल : 'दिल से" कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने युवाओं से सफल नहीं, सार्थक जीवन जीने की अपील की। 
उन्होंने गायिका पलक मुछाल और राजधानी के सरकारी स्कूल की छात्रा मुस्कान का उदाहरण देते हुए कहा कि युवा समाज के लिए भी काम करें। उनका जीवन देश और समाज के लिए भी है।
मुख्यमंत्री रविवार शाम को दूरदर्शन और आकाशवाणी के माध्यम से प्रदेश के युवाओं से सीधी बात कर रहे थे। इससे पहले वे इसी कार्यक्रम में किसानों से बात कर चुके हैं। 
चौहान ने राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में प्रदेश के लिए पदक लाने वाले दिव्यांग खिलाड़ियों को सीधे सरकारी नौकरी देने की घोषणा की।
 पलक ने एक हजार हृदयरोगी बच्चों के इलाज के लिए तीन करोड़ रुपए दान किए हैं। जबकि मुस्कान झुग्गी बस्ती में पुस्तकालय चलाती हैं।
कार्यक्रम में मुख्यमंत्री चौहान ने स्वामी विवेकानंद, महात्मा गांधी, पं. दीनदयाल उपाध्याय और प्रधानमंत्री मोदी के जीवन से जुड़े प्रेरणा प्रसंग सुनाए।
 उन्होंने थ्री इडियट फिल्म का उदाहरण देते हुए कहा कि रटो मत, विषय को समझो। अपनी प्रतिभा का स्वाभाविक विकास होने दो। उन्होंने अभिभावकों से बच्चों से स्नेह से पेश आने की अपील की। 
चौहान ने रीवा कलेक्टर प्रीति मैथिल का उदाहरण देते हुए कहा कि खुद की पढ़ाई जारी रखने के लिए मैथिल ने ट्यूशन ली और कलेक्टर बन गईं। 
मुख्यमंत्री ने राज्य और केंद्र सरकार की योजनाओं का जिक्र करते हुए युवाओं से उनका लाभ उठाने को कहा। वहीं प्रदेश में मजदूरों के बच्चों के लिए अगले साल से श्रमोदय विद्यालय शुरू करने, संभाग स्तर पर उत्कृष्ट आईटीआई खोलने, जिलों में आईटी कौशल केंद्र खोलने और सिंगापुर के सहयोग से भोपाल में ग्लोबल स्किल पार्क बनाने की घोषणा की। 
उन्होंने कहा कि युवाओं को इसरो, भाभा एटॉमिक सेंटर, हिंदुस्तान एयरोनॉटिक, विभिन्न् एम्स, आईआईटी जैसे संस्थानों का शैक्षणिक भ्रमण कराया जाएगा। 
ब्लू व्हेल गेम को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि इस काल्पनिक संसार से दूर रहो। यह जिंदगी खराब कर देते हैं। अपनी शक्ति और क्षमता पहचानो। कभी निराश मत हो, ऊर्जा से भरे रहो। उतार-चढ़ाव से मत घबराओ। सरकार से भी अपनी समस्याएं साझा कर सकते हैं। 

Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment