गुरुग्राम के स्कूल में सात वर्षीय छात्र की गला रेतकर हत्या

गुरुग्राम : गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में शुक्रवार को सात साल के एक छात्र की हत्या कर दी गई। कक्षा दो के छात्र प्रद्युम्न की हत्या बाथरूम में गला रेतकर की गई है।
 मौके से चाकू भी बरामद हुआ है। हत्या किसने और क्यों की, यह जानने के लिए पुलिस की आठ टीमें पूरे दिन छानबीन करती रहीं। लेकिन पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लगा। सीसीटीवी फुटेज देखे गए मगर कैमरे उस ओर नहीं लगे थे जिस तरफ बाथरूम है।
इस सनसनीखेज वारदात ने पूरे शहर के लोगों को दहला दिया। काफी संख्या में अभिभावक व लोगों ने स्कूल पहुंचकर प्रदर्शन भी किया। उनकी पुलिस से झड़प भी हुई। हर कोई यही बोल रहा था कि स्कूल में भी बच्चे सुरक्षित नहीं फिर कहां सुरक्षित हैं।
मूल रूप से बिहार (गांव बड़ा, जिला मधुबनी) निवासी वरुणचंद ठाकुर सोहना रोड स्थित श्याम कुंज में परिवार सहित रहते हैं। वह ओरिएंट क्राफ्ट कंपनी में क्वालिटी मैनेजर हैं। उनकी बेटी विधि (पांचवी कक्षा) और बेटा प्रद्युम्न (दूसरी कक्षा) रेयान स्कूल में पढ़ते हैं। 
प्रतिदिन की तरह ही उन्होंने शुक्रवार सुबह अपने दोनों बच्चों को सुबह सात बजकर 50 मिनट पर स्कूल के गेट तक छोड़ा था। अनुमान है कि प्रद्युम्न कक्षा में बैग रखने के साथ ही बाथरूम गया होगा। वहीं पर उसकी धारदार हथियार से गला रेतकर हत्या कर दी गई।
आशंका है कि उस पर हमला बाथरूम में किया गया होगा। इसके बाद वह भागकर बाहर आया होगा। इस वजह से बाथरूम के ठीक बाहर उसका शव पड़ा था। स्कूल के किसी कर्मचारी ने प्रबंधन को इस बारे में सूचना दी। 
प्रबंधन ने छात्र के पिता को लगभग आठ बजकर 10 से 15 मिनट के बीच में सूचना दी कि प्रद्युम्न बाथरूम में गिर गया है। उसके काफी खून निकल रहा है। उसे लेकर एक निजी अस्पताल जा रहे हैं। लगभग आठ बजकर 35 मिनट पर वरुणचंद ठाकुर अस्पताल पहुंच गए। वहां पर डॉक्टरों ने बताया कि बच्चे की मौत पहले ही हो चुकी थी।
ठाकुर ने इस घटना के लिए स्कूल प्रबंधन को पूरी तरह जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि उनके बेटे की हत्या की गई है। यह काम बच्चे का दोस्त नहीं कर सकता। 
हत्या स्कूल के किसी स्टाफ ने या फिर बड़ी कक्षा के किसी छात्र ने की होगी। क्यों हत्या की गई? यह उन्हें समझ में नहीं आ रहा है। पुलिस ने शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर लिया है।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment