गुरमीत राम रहीम रेप केस : फैसले से पहले हरियाणा बना छावनी, सीमाएं सील, धारा 144 लागू


पंचकुला में एक विशेष सीबीआई अदालत डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के खिलाफ यौन शोषण के एक मामले में 25 अगस्त को फैसला सुनाएगी.
सिंह पर हरियाणा के सिरसा स्थित डेरा परिसर के भीतर बलात्कार का आरोप है. फैसले के मद्देनजर कानून व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए पुलिसकर्मियों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं और केंद्र से अर्धसैन्य बलों की 150 कंपनियों की मांग की गई है.
पंजाब के डीजीपी ने प्रदेश के सभी डीआईजी, आईजी और एसएसपी को अलर्ट जारी कर बताया है कि डेरा से जुड़े लोग पेट्रोल, डीजल, पत्थर और धारदार हथियार जमा कर रहे हैं. पंजाब और हरियाणा दोनों प्रदेशों को लगभग छावनी में तब्दील किया जा रहा है.
डीजीपी ने बताया कि डेरा सच्चा सौदा प्रमुख से जुड़े मामले में आने वाले फैसले को ध्यान में रखते हुए राज्य में सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किये गए हैं. 
पैरा-मिलिट्री फोर्स की 75 कंपनियों को हरियाणा में तैनात किया गया है जबकि 150 कंपनियों की और मांग की गई है. ड्रोन की मदद से भी नजर रखी जा रही है.
एक सीनियर पुलिस अधिकारी ने बताया कि लगभग दस लाख डेरा समर्थक फैसले के दिन चंडीगढ़ में जमा हो सकते हैं और इतनी बड़ी संख्या में लोगों को लॉक-अप में नहीं रखा जा सकता, इसलिए स्टेडियम और दूसरी बड़ी इमारतों को अस्थाई जेल बनाया जा रहा है.
जगह-जगह पर क्रेन, ऐम्बुलेंस और फायर बिग्रेड के बंदोबस्त कर लिए गए हैं. अस्पतालों को भी अलर्ट किया है और किसी भी स्थिति से निपटने के लिए संबंधित अधिकारियों को आवश्यक कदम उठाने के आदेश दे दिए गए हैं.
राज्य के पंचकुला , सिरसा, अंबाला, कुरूक्षेत्र, करनाल, कैथल, हिसार, फतेहाबाद और जींद के संवेदनशील इलाके में करीबी नजर रखी जा रही है. सिंह के खिलाफ मामला 2002 में दर्ज किया गया था.
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment