भारतीय मुक्केबाज विजेंदर ने तंजानिया के चेका को किया नॉकआउट, खिताब बरकरार

मुक्केबाजी स्टार विजेंदर सिंह ने अपनी ख्याति के अनुरूप प्रदर्शन करते हुए शनिवार को तंजानिया के फ्रांसिस चेका को दस मिनट के अंदर ही नॉकआउट करके पेशेवर मुक्केबाज के रूप में अपना अजेय अभियान जारी रखने के साथ ही डब्ल्यूबीओ एशिया पैसेफिक का अपना खिताब बरकरार रखा।

 विजेंदर ने त्यागराज स्टेडियम में पूर्व विश्व चैंपियन चेका के खिलाफ दस राउंड के मुकाबले के तीसरे राउंड में ही जीत दर्ज की।

उन्होंने बाद में कहा कि मैंने इस मुकाबले के लिए मैनचेस्टर में दो महीने तक कड़ा अभ्यास किया था। मैं अपने सभी कोचों का आभार व्यक्त करता है।

 चेका ने बहुत बातें की थी लेकिन मैं अपने मुक्कों की ताकत में विश्वास रखता हूं और मैंने वही किया। रिंग के ईद गिर्द कई हस्तियां मौजूद थी।

 पांच बार के विश्व चैंपियन एम सी मेरीकोम से लेकर गह राज्यमंत्री किरण रिजजु तथा पहलवान सुशील कुमार और योगेश्वर दत्त भी विजेंदर का हौसला बढ़ा रहे थे। 

आगे की पंक्ति में हालांकि जिस व्यक्ति ने सभी ध्यान अपनी तरफ खींचा वह योग गुरु बाबा रामदेव थे। उन्होंने सुशील के साथ स्टेडियम में कदम रखा और तालियों के साथ उनका स्वागत किया गया।

सिंह इज किंग की आवाजों के बीच विजेंदर के आने से पहले ही दर्शक उत्साहित दिखे। जब मुकाबला शुरू हुआ तो चेका ने थोड़ी तेजी दिखायी लेकिन भारतीय ने जल्द ही लय हासिल कर ली और चेका को करारे अपरकट से हिला कर रख दिया।

चेका दूसरे राउंड में बैकफुट पर पहुंच गये क्योंकि विजेंदर के करारे मुक्कों का उनके पास कोई जवाब नहीं दिख रहा था। विजेंदर ने अपनी पहुंच का भी फायदा उठाया।

 अपनी छोटी पहुंच के कारण जहां चेका को संतुलन बनाने में दिक्कत हो रही थी वहीं विजेंदर ने अपने हाथों की लंबाई का अच्छा उपयोग किया।

इससे पहले राजेश कुमार ने 61 किग्रा भार वर्ग में युगांडा के मुबारक सेगुया को जजों के दिये गये अंकों के आधार पर 39-37, 37-38, 39-37 से हराया।

दीपक तंवर (67 किग्रा) के सामने इंडोनेशिया के सुतरियानो बारा ब्वायज थे। यह मुकाबला बेमेल लगा और दीपक ने आसानी से अपने प्रतिद्वंद्वी को नाकआउट किया। दीपक की यह चौथी जीत है और उन्होंने अपना अजेय अभियान बरकरार रखा।

धर्मेन्दर ग्रेवाल (95 किग्रा) का सामना युगांडा के अबासी कयोबे से था। यह मुकाबला पूरे चार राउंड तक चला और दर्शकों ने इसका पूरा लुत्फ उठाया। तीनों जजों ने धमेर्न्दर को इसमें विजेता करार दिया।

 कुलदीप ढांढा और इंडोनेशिया के इगी रोजटन के बीच लाइटवेट मुकाबले में भारतीय मुक्केबाज ने जीत दर्ज की। यह कुलदीप की सर्किट में लगातार तीसरी जीत है।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment