कश्मीर : पैलेट गन से घायल 11 साल के बच्चे की मौत, जनाजे के दौरान भी फायरिंग,कर्फ्यू लगा

श्रीनगर.  शनिवार को हरवान एरिया में एक किशोर की डेड बॉडी बरामद होने के बाद  यहां कर्फ्यू लगा दिया गया। 11 साल के मोमिन अल्ताफ गनई की बॉडी पर पैलेट गन की गोलियों के निशान पाए गए हैं। 

इसके साथ ही 70 दिन से हिंसाग्रस्त साउथ कश्मीर में मरने वालों की संख्या 81 हो गई है, इसमें 2 पुलिस वाले भी शामिल हैं। घाटी के दो शहरों और श्रीनगर के बाकी हिस्सों में भी कर्फ्यू पहले की तरह जारी है।

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, एक पुलिस ऑफिशियल ने बताया कि हरवान के रहने वाले नासिर शफी काजी उर्फ मोमिन अल्ताफ गनई की डेड बॉडी शुक्रवार देर रात पाई गई। 

गनई को ग्रीनलाइट स्कूल इश्बर का स्टूडेंट बताया जा रहा है। हरवान में शुक्रवार को सिक्युरिटी फोर्सेज और प्रदर्शनकारियों के बीच हुई झड़प में यह किशोर घायल हो गया था। झड़प के बाद से ही यह लापता था।

शनिवार सुबह कर्फ्यू का वॉयलेशन कर इस किशोर के जनाजे में शामिल होने हजाराें लोग पहुंचे। इस दौरान सिक्युरिटी फोर्सेज पर पत्थर बरसाए गए।

प्रदर्शनकारियों पर काबू पाने के लिए सिक्युरिटी फोर्सेज को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े और पैलेट गन भी चलानी पड़ी। इसमें कई लोग घायल हो गए।

 सिक्युरिटी फोर्सेज और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प में किसी किशोर के मारे जाने की यह दूसरी घटना है।  इससे पहले, घाटी में 11 सितंबर को बुरी तरह घायल हुए जावेद अहमद डार (16) की मौत हुई थी।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment