मध्यप्रदेश की देश में अलग पहचान बनाने के लिए नजरिया और सोच में परिवर्तन लाएँ - मुख्यमंत्री



मुख्यमंत्री ने कहा है कि यह परिवर्तन का दौर है। पूरी दुनिया में हर क्षेत्र में बदलाव हो रहे हैं। ऐसी परिस्थिति में मध्यप्रदेश की देश में एक अलग पहचान बनाने के लिए हम सबको देश और दुनिया में हो रहे परिवर्तन से जुड़ते हुए अपने नजरिये और सोच में परिवर्तन लाना होगा। उन्होंने कहा कि आज आवश्यकता इस बात की है कि हम सब सकारात्मक सोच और दृष्टिकोण के साथ अपना काम करें।  कमल नाथ आज मंत्रालय के सामने सरदार पटेल पार्क में मध्यप्रदेश स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में अधिकारियों-कर्मचारियों को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर अधिकारियों-कर्मचारियों को मध्यप्रदेश के सर्वांगीण विकास का संकल्प दिलवाया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश भारत का हृदय प्रदेश होने के साथ-साथ एक लघु भारत भी है। यहाँ सभी प्रदेशों, जातियों, भाषाओं, धर्मों और विभिन्न वर्गों के लोग निवास करते हैं । उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश हम सभी का है। इसलिए हम सबका यह दायित्व है कि हमारा प्रदेश एक प्रगतिशील प्रदेश बने। यहाँ के नागरिकों के जीवन में खुशहाली आए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे किसानों के हालात सुधरें, नौजवानों को रोजगार मिले, शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं की गुणवत्ता में उत्कृष्टता आए। इसके लिए क्रांतिकारी तरीके से काम करने की जरूरत है। उन्होंने अधिकारियों, कर्मचारियों और निर्णय व्यवस्था से जुड़े सभी लोगों से कहा कि वे आज के दिन यह संकल्प लें कि जब हम अगला स्थापना दिवस मनाएँ, तो हमारा प्रदेश, देश के अग्रणी प्रदेशों की कतार में खड़ा हो। मुख्यमंत्री ने भावी पीढ़ी को भारतीय मूल्यों और संस्कृति से जोड़ने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि देश को एक रखने की हमारी यह ताकत कमजोर न होने पाए, इसके लिए हमें निरंतर प्रयासरत रहना होगा।
मुख्यमंत्री द्वारा उत्कृष्ट अधिकारी-कर्मचारी पुरस्कृत
मुख्यमंत्री ने इस मौके पर उत्कृष्ट कार्य करने वाले कर्मचारियों और अधिकारियों को पुरस्कृत किया। राज्य शासन द्वारा स्थापित सुशील चन्द्र वर्मा पुरस्कार वर्ष 2015-16 के लिए मती ऊषा परमार, उप सचिव सामान्य प्रशासन विभाग को प्रथम पुरस्कार, अपर सचिव सामान्य प्रशासन  कैलाश कातिया को द्वितीय पुरस्कार, द्वितीय श्रेणी वर्ग में अनुभाग अधिकारी सामान्य प्रशासन  सलीम खान, मती लता दीवान को प्रथम, मती रत्ना लक्षाणी को द्वितीय, मती मधुबाला वास्तव को तृतीय पुरस्कार दिया गया। तृतीय श्रेणी में सु हरि भोजवानी को प्रथम,  राम सिया को द्वितीय एवं  कन्हैयालाल को तृतीय पुरस्कार दिया गया। चतुर्थ श्रेणी वर्ग में  रमेश को प्रथम एवं मती राम बाई को द्वितीय पुरस्कार दिया गया। वर्ष 2016-17 के लिए प्रथम श्रेणी वर्ग में उप सचिव सामान्य प्रशासन  संजय कुमार को प्रथम, उप सचिव गृह मती अजीजा सरशार जफर को द्वितीय और अवर सचिव  प्रदीप जैन को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया। द्वितीय श्रेणी वर्ग में  पैकरण सिंह अनुभाग अधिकारी गृह विभाग को प्रथम,  यशवंत कुमार ढोणे को द्वितीय एवं  ओ.पी. मेहरा को तृतीय पुरस्कार दिया गया। तृतीय श्रेणी वर्ग में  चंद्रपाल बाथम को प्रथम,  राजेश चौधरी को द्वितीय एवं मती प्रतिभा डोलस को तृतीय पुरस्कार प्राप्त हुआ। चतुर्थ श्रेणी वर्ग में  मुकेश नाई को प्रथम,  लक्ष्मण दास बैरागी को द्वितीय एवं  अमृतलाल पटेल को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया। प्रथम पुरस्कार में 50 हजार, द्वितीय पुरस्कार में 30 हजार एवं तृतीय पुरस्कार में प्रत्येक को 10 हजार रुपये की सम्मानित निधि प्रदान की गई।

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment