.....

उदाहरण बनीं मुरैना जिले की तीन पंचायत, महिलाएं निर्विरोध बनेंगी सरपंच व पंच

 मुरैना। मुरैना जिले की तीन ग्राम पंचायतों ने इतिहास रच दिया है। यह तीनों ग्राम पंचायतें महिला सम्मान व महिला सशक्तिकरण की मिसाल बनकर उभरी हैं। यहां सरपंच व पंच पदों पर महिलाओं को निर्विरोध चुना गया है। संभवत: पूरे प्रदेश में मुरैना जिला पहला है, जहां तीन ग्राम पंचायतों में महिला जनप्रतिनिधि निर्विरोध चुनावी रण में उतारी गई है। इनमें केबिनेट मंत्री दर्जा व एमपी एग्रो के चेयरमैन ऐंदल सिंह कंषाना का नाम सबसे अव्वल है, जिन्होंने अपने गृह गांव नायकपुरा और पड़ोसी हुसैनपुर ग्राम पंचायत में सरपंच व 12-12 पंच पदों पर महिलाओं को निर्विरोध चुनवाया है।


नायकपुरा से ऐंदल सिंह कंषाना की भावी कैलादेवी तो हुसैनपुर से जनकश्री निर्विरोध सरपंच बनेंगी। तीसरी ग्राम पंचायत सबलगढ़ जनपद की सिमरौदा किरार है, जहां ओमवती धाकड़ को निर्विरोध सरपंच चुनी गई हैं। पंचायत के सभी 12 वार्ड में भी महिलाओं को निर्विरोध पंच प्रत्याशी चुना गया है।

69 लाख खर्च कर कराए काम, तब हुई निर्विरोध
सबलगढ़ जनपद की सिमरौदा किरार ग्राम पंचायत में दो गांव सिमरौदा व झारेला गांव आते हैं। पिछली बार हुए चुनाव में यहां आधा दर्जन से ज्यादा प्रत्याशी मैदान में थे और दामोदर धाकड़ ने चुनाव जीता था, जो कैंसर रोग से ग्रसित हो गए। पंचायत में उतना काम नहीं हुआ जितनी उम्मीद थी। ऐसे मंे आेमवती धाकड़ के पति रामप्रकाश धाकड़ ने करीब चार साल पहले ही सरपंची के लिए दावा कर दिया था, लेकिन चुनाव समय पर नहीं हुए। इस बीच प्रकाश धाकड़ ने बिना किसी सरकारी बजट के अपने खर्च से 69 लाख रुपये खर्च करके 20 फीट गहरा गुमा नाले के अलावा कई काम करवाए। इसके लिए रामप्रकाश धाकड़ ने कुछ लोगों की समिति बनाई, जिसने काम की मानीटरिंग व खर्च का हिसाब रखा। इसी काम की दम पर रामप्रकाश की पत्नी ओमवती को पूरे गांव में बिना विरोध के सरपंच चुन लिया है।
 

तीनों पंचायतों को नकद मिलेंगे 12-12 लाख, 15 लाख विकास कार्यों को

पंचायत चुनाव में निर्विरोध जीत हासिल करने वाले प्रत्याशियों और उनके क्षेत्र को सरकार द्वारा पुरस्कृत किया जाएगा। जिस पंचायत में केवल सरपंच निर्विरोध चुना जाएगा उसे पांच लाख रुपये की पुरस्कार राशि दी जाएगी। ऐसी ग्राम पंचायत जिसके सरपंच तथा सभी पंच निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं, उन्हें सात लाख रुपये की पुरस्कार राशि मिलेगी और जिन पंचायतांे में सरपंच व पंच पदों पर महिलाएं निर्विरोध चुनी जाएंगी, उस ग्राम पंचायत को सरकार नकद 12 लाख रुपये और 15 लाख रुपये विकास कार्याें के लिए अलग से दिए जाएंगे।

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment