.....

INSACOG ने की भारत में कोरोना के BA.4 और BA.5 वैरियंट की पुष्टि

  केंद्रीय निकाय INSACOG ने रविवार को भारत में कोरोनावायरस बीमारी (कोविड -19) के BA.4 और BA.5 वेरिएंट का पता लगाने की पुष्टि कर दी है। इसका पहला केस तमिलनाडु में और दूसरा तेलंगाना में मिला था। दोनों तेजी से फैलने वाले ओमिक्रोन वैरिएंट के सब-वेरिएंट हैं, जिसके कारण इस साल की शुरुआत में देश में वायरस का व्यापक प्रसार हुआ था। INSACOG ने एक बैठक भी की है और BA.4 पर चर्चा की है। इससे पहले एक दक्षिण अफ्रीकी यात्री हैदराबाद एयरपोर्ट पर पहुंचने पर BA.4 वेरियंट से संक्रमित पाया गया था।


केंद्रीय स्वास्थ्य निकाय ने कहा कि एहतियात के तौर पर बीए.4 और बीए.5 रोगियों का अनुबंध ट्रेसिंग किया जा रहा है। अब प्रयोगशालाओं का समूह वर्तमान में नए वेरिएंट की पहचान करने के लिए काम कर रहा है। बीए.4 के पहले मामले का पता लगाने के बाद दक्षिण अफ्रीका से हैदराबाद की यात्रा करने वाले व्यक्ति के संपर्क में आने वालों के संपर्क का पता लगाना शुरू कर दिया गया है।इंसाकोग सोमवार को मेडिकल बुलेटिन जारी करेगा। Omicron के BA.4 और BA.5 दोनों प्रकार दक्षिण अफ्रीका में पांचवीं COVID लहर से जुड़े हैं और हाल ही में अमेरिका और यूरोप ने भी रिपोर्ट किया है।

 हैदराबाद में कोरोनोवायरस के ओमिक्रॉन स्ट्रेन के बीए.4 सबवेरिएंट के भारत के पहले मामले का पता चला था। सूत्रों ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया, "भारतीय SARS-CoV-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम (INSACOG) ने पुष्टि की है कि भारत में BA.4 Omicron वेरिएंट का पहला मामला हैदराबाद से सामने आया है।

भारतीय SARS-CoV-2 जीनोमिक्स कंसोर्टियम केंद्र सरकार द्वारा स्थापित संयुक्त निकाय ने कहा कि तमिलनाडु में एक 19 वर्षीय महिला BA.4 वैरियंट से संक्रमित पाई गई थी। रोगी में केवल हल्के नैदानिक ​​​​लक्षण मिले हैं और पूरी तरह से टीका लगाया गया है। तेलंगाना में एक 80 वर्षीय व्यक्ति को BA.5 संस्करण के लिए पॉजिटिव पाया गया था। इस रोगी ने भी हल्के नैदानिक ​​लक्षण दिखाए थे और उसे पूरी तरह से टीका लगाया गया था। INSACOG ने कहा कि उनकी कोई ट्रैवल हिस्‍ट्री नहीं थी।

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment