.....

शाह और योगी ने जारी किया 130 संकल्पों का लोक कल्याण संकल्प पत्र

 लखनऊ । न स्थान बदला, न दृष्टिकोण में कोई फर्क और न ही रीति-नीति में कोई अंतर। 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले राजधानी के इसी इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान से जब भाजपा ने वादों की पोटली खोली, तब नीति में अंत्योदय का सिद्धांत, किसानों के कल्याण की शपथ, गुंडाराज-माफियाराज पर प्रहार के तीखे तेवर और प्रदेश के चहुंमुखी विकास के इरादे के साथ सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की ध्वजा हाथ में थी। एक-एक संकल्प मोहिनी-मंत्र साबित हुआ और झोली में 312 सीटें आ गईं। अब शासन के पांच बरस बीतने के बाद भाजपा 2022 के चुनाव के लिए संकल्पों की सूची लेकर आई तो आत्मविश्वास साथ था कि 2017 के 212 संकल्पों में से 92 प्रतिशत सिद्ध हुए। अब फिर कंधे पर किसान है, जिसे सिंचाई के लिए मुफ्त बिजली दी जाएगी।

हर बेघर को घर, हर परिवार को रोजगार-स्वरोजगार और प्रति व्यक्ति आय दोगुनी करने का बड़ा वादा है। कालेज जाने वाली मेधावी बेटियों को रानी लक्ष्मीबाई योजना से मुफ्त स्कूटी मिलेगी। युवाओं को दो करोड़ टैबलेट-स्मार्टफोन दिए जाएंगे। लव जिहाद में सख्त सजा, पांच नए एंटी-टेरेरिस्ट कमांडो सेंटर के तेवर साथ हैं तो अयोध्या में रामायण विश्वविद्यालय की स्थापना जैसे वादे कर सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की पताका भी भाजपा मजबूती से थामे है।

2017 में बतौर राष्ट्रीय अध्यक्ष भाजपा का लोक कल्याण संकल्प पत्र जारी करने वाले गृहमंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को 2022 के विधानसभा चुनाव के लिए लोक कल्याण संकल्प पत्र जारी किया। 'यूपी नंबर वन' के आह्वान से शुरू अभियान में पार्टी के पास लगभग दो करोड़ सुझाव आए, जिनमें से 130 प्रमुख बिंदुओं को 12 पन्नों के संकल्प पत्र में शामिल किया गया है। 'भाजपा का संकल्प, बनेगा यूपी नंबर वन' को अमित शाह ने इस दावे का आधार दिया कि 2017 में जो 212 संकल्प लिए थे, उनमें से 92 प्रतिशत पूरे किए जा चुके हैं। इस घोषणा पत्र के केंद्र में भी भाजपा संगठन और सरकार का 'सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास' का संदेश दिखाई देता है।

विपक्षी दल किसानों के मुद्दे को अपना प्रमुख हथियार बनाना चाहते हैं, इसलिए भाजपा ने भी इसे ही पहले की तरह प्राथमिकता में रखा है। समृद्ध कृषि की संकल्पना में ऐलान किया गया है कि अगले पांच वर्षों में सभी किसानों को सिंचाई के लिए मुफ्त बिजली दी जाएगी। 5000 करोड़ की लागत से मुख्यमंत्री कृषि सिंचाई योजना शुरू की जाएगी, जिसके तहत सभी लघु एवं सीमांत किसानों के लिए बोरवेल, ट्यूबवेल, तालाब एवं टैंक निर्माण के लिए अनुदान दिया जाएगा। अन्य घोषणाओं के साथ गन्ना किसानों के लिए वादा किया है कि 14 दिन में गन्ना मूल्य का भुगतान होगा। देरी होने पर मिलों से ब्याज वसूल कर किसानों को ब्याज समेत भुगतान किया जाएगा।

सबका साथ, सबका विकास का संदेश देने के लिए इस श्रेणी में 21 संकल्प रखे गए हैं। प्रमुख यह कि गरीब, आवासहीन, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, घुमंतु जाति, पिछड़ा व वंचित एवं अन्य गरीब परिवारों को आवासीय पट्टे की भूमि और आवास की सुविधा दी जाएगी। गरीबों की चिंता करते हुए न्यूनतम मूल्य पर भोजन उपलब्ध कराने के लिए मां अन्नपूर्णा कैंटीन खोली जाएंगी। युवा मन को मोहने के साथ पिछड़ा कार्ड साथ-साथ चला गया है। मछुआरा समुदाय के युवाओं को रोजगार देने के लिए नदियों के पास लाइफ गार्ड की नियुक्ति की जाएगी। अन्य पिछड़ा वर्ग के युवाओं को मुफ्त कोचिंग के लिए प्रशिक्षण अकादमी खोलने का वादा किया गया है।

हर मंडल में एक विश्वविद्यालय तो हर ब्लाक में एक आइटीआइ की घोषणा है। आधी आबादी पर भाजपा ने पूरी नजर जमाए रखी है। फिर सरकार बनने पर पांच हजार करोड़ की लागत से अवंति बाई लोधी स्वयं सहायता समूह मिशन शुरू किया जाएगा। इसके तहत पांच लाख नए महिला स्वयं सहायता समूह बनाए जाएंगे। लोक सेवा आयोग सहित सभी सरकारी नौकरियों में महिलाओं की संख्या को दोगुना किया जाएगा। इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह, प्रदेश चुनाव सह-प्रभारी अनुराग ठाकुर, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, डा. दिनेश शर्मा और संकल्प पत्र समिति के अध्यक्ष सुरेश कुमार खन्ना भी मंच पर थे।

पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के नाम पर आएगी गांवों के विकास की योजना : लोक कल्याण संकल्प पत्र के जरिये भाजपा ने गांव, गरीब, पिछड़े और दलित वर्ग के लिए बड़े दिल का संदेश दिया है। पिछड़ों के लोकप्रिय नेता रहे पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के प्रति श्रद्धा जताते हुए पार्टी ने घोषणा की है कि सरकार बनने पर गांवों के विकास के लिए बाबूजी कल्याण सिंह ग्राम उन्नत योजना शुरू की जाएगी। साथ ही दलित और गरीबों के लिए भी भगवा खेमे ने बड़े संकल्प लेते हुए सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास का संदेश देने का प्रयास किया है। गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जो लोक कल्याण संकल्प पत्र जारी किया, उसमें भाजपा का विशेष प्रयास पिछड़ा और दलित वर्ग के लिए उसी तरह दिखा है, जैसे कि टिकट वितरण में दिखा है। घोषणा की गई है कि बाबूजी कल्याण सिंह ग्राम उन्नत योजना से गांवों का समग्र विकास किया जाएगा। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत हर गांव को मुख्य सड़क से जोड़ा जाएगा। गांवों में पक्के ड्रेनेज सिस्टम की व्यवस्था बनाकर जल निकासी की समस्या को दूर किया जाएगा। प्रत्येक ग्राम पंचायत में बस स्टाप निर्माण और हर ग्राम पंचायत में शत-प्रतिशत इंटरनेट कनेक्टिविटी का वादा किया गया है।

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment