.....

ग्वालियर और चंबल संभाग के 8 जिलों की मुख्यमंत्री ने समीक्षा की


 भोपाल : मुख्यमंत्री श्शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के जिन जिलों में बाढ़ ने कहर बरपाया वहां जल्दी से जल्दी सभी व्यवस्थाएं दुरस्त बनाने का कार्य किया जा रहा है। संबंधित जिलों के प्रशासनिक अमले को सामाजिक संस्थाओं से सहयोग लेकर सबसे पहले प्रभावितों को भोजन पैकेट, आटा,पेयजल उपलब्ध करवाने का कार्य किया जाए। प्रभावित परिवारों को जरूरत के अनुसार दवाईयां आदि भी प्रदान की जाएं। उनकी जिंदगी को सामान्य बनाने के लिए प्रत्येक आवयक कदम उठाया जाए। प्रशासनिक अधिकारी हों या जनप्रतिनिधि, सभी लोग बाढ़ प्रभावितों की सहायता में जुट जाएं।

मुख्यमंत्री चौहान ने वीडियो कांफ्रेंस द्वारा प्रभावित जिलों के प्रशासनिक अधिकारियों और इन जिलों की क्राइसेस मैनेजमेंट टीम के सदस्यों के साथ चर्चा के दौरान यह निर्देश दिये। मुख्यमंत्री चौहान ने श्योपुर कला, अशोक नगर, शिवपुरी, दतिया, मुरैना, भिंड, गुना और ग्वालियर जिला प्रशासन से संवाद कर राहत कार्यों की जानकारी प्राप्त की। 

 

केन्द्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी इस बैठक से वर्चुअली जुड़े। तोमर ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान की तत्परता के कारण प्रभावित जिलों में लोग जल्दी ही कष्ट से उबर जायेंगे। सर्वेक्षण के पश्चात पात्र लोगों को सम्पत्ति आदि के नुकसान पर राहत राशि भी प्रदान की जाये। विकेंद्रित व्यवस्था से समाज का सहयोग लेकर राहत कार्यों को पूरा करना चाहिए। 

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राज्य शासन ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत पहुंचाने के उद्देश्य से टास्क फोर्स का गठन भी किया है। संबंधित 12 विभाग और उनके मंत्री निरंतर समीक्षा कर रहे हैं। मंत्री जिलों में रहकर राहत कार्यों की निगरानी भी कर रहे हैं। पहला उद्देश्य जनता को राहत प्रदान कर पुनर्वास के कार्य पूरे करने हैं। इसके पश्चात पुनर्निमाण के लक्षय को पूरा किया जायेगा। क्षति के सर्वे के लिए पारदर्शी कार्यवाही की जाये। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि सर्वेक्षण कार्य के पश्चात उन परिवारों को प्रारंभिक तौर पर 6 हजार रूपये की सहायता राशि उपलब्ध कराई जाये, जिनके मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं। दीर्घकालिक योजना में ऐसे क्षतिग्रस्त मकानों में रहने वाले परिवारों को प्रधानमंत्री आवास योजना की तरह 01 लाख 20 हजार रूपये की राशि देने का कार्य किया जायेगा।  

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment