.....

अपने बेड पर लेटे हुए भी मुमकिन है योग


सुबह उठने के बाद बहुत से लोग योग सिर्फ इसलिए नहीं करते क्योंकि उनकी हिम्मत नहीं होती कि वो बेड छोड़कर योग मैट पर आएं।

 वैसे तो योग खुली हवा में जाकर किया जाए तो बेहतर रहता है लेकिन फिर भी अगर आप उन लोगों में से हैं जो वक्त की कमी या आलस के चलते सुबह योग नहीं कर पाते, तो आप ये तरकीब अपना सकते हैं कि अपने बेड पर लेटे हुए ही योग कर लें। जी हां, बेड पर लेटे हुए योग करना मुमकिन है।
योग के कुछ आसन ऐसे हैं जिन्हें बेड पर लेटे हुए किया जा सकता है। इन्हें करने से आप न सिर्फ दिनभर चुस्त दुरुस्त महसूस करेंगे बल्कि आपकी ओवर-ऑल फिटनेस भी बनी रहेगी। आइये हम आपको ऐसे ही कुछ आसन के बारे में बताते हैं।
सेतुबंधासन – अगर आपकी कमर में अक्सर दर्द रहता है तो ये आसन आपके लिए काफी मददगार साबित हो सकता है। इस आसन का असर रीढ़ की हड्डी और पूरे तंत्रिका तंत्र पर पड़ता है। साथ ही आपका मेटाबॉलिज्म भी तेज़ होता है। जब आप बेड पर पीठ के बल लेटे हों तो इस आसन को आसानी से कर सकते हैं। लेटे लेटे अपने हाथों को शरीर के बगल में सटाकर रखें,  हथेली जमीन की तरफ हो और दोनों बाजू सीधी रहें। अब अपने दोनों पैरों के घुटने को इस तरह मोड़े की पैर के तलवे जमीन से लग जाएं। इसके पश्चात सांस ले, कुछ पल के लिए सांस रोकें और धीरे-धीरे कमर को जमीन से ऊपर उठाने की कोशिश करे| आपको कमर को इतना ऊपर उठाना है कि छाती ठुड्डी को छूने लगे। कुछ सेकेंड तक रुकें फिर सामान्य स्थिति में लौट आएं।
 धनुरासन – अगर आपको दिनभर काम के दौरान थकान महसूस होती है तो रोज़ सुबह उठते ही ये आसन करें। धनुरासन दिल को स्वस्थ भी रखता है और पाचन बेहतर बनाता है। इसके अलावा आपकी रीढ़ की हड्डी को भी इससे काफी लाभ होता है। इसके लिए सबसे पहले अपने बेड पर पेट के बल लेट जाएं। अब घुटनों को मोड़े और अपने हाथ से टखनों को पकड़े। अपने सिर, छाति और जांघ को ऊपर की ओर उठाएं। कोशिश करें कि पूरा शरीर पेट पर टिका हो। जब आप पूरी तरह से अपने शरीर को ऊपर उठा लें तो पैरों के बीच की जगह को कम करने की कोशिश करें। कुछ पल रुककर सामान्य स्थिति में लौट आएं।
 बालासन – इस आसन को करने से मसल्स मजबूत होती हैं और पेट की चर्बी भी घटती है। इससे ब्लड फ्लो भी बेहतर होता है। इसे करना काफी आसान भी है। घुटने के बल बैठ जाएं और शरीर का सारा भार एड़ियों पर डालें। गहरी सांस लेते हुए आगे की ओर झुकें। आपका सीना जांघों से छूना चाहिए और अपने माथे से फर्श को छूने की कोशिश करें। कुछ सेकंड इस अवस्था में रहें फिर लौट आएं।
 विपरीत करणी आसन – सुबह उठने के बाद अक्सर लोगों को महसूस होता है कि उनके शरीर में बिल्कुल ऐनर्जी नहीं है। बिस्तर से उठने के पहले ही ये आसन कर लीजिए। इससे आपका ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता और ऐनर्जेटिक फील होगा। साथ ही आपके हिप्स और कमर को स्ट्रेच मिलेगा। इस आसन में आप पीठ के लेटे लेटे दीवार पर पैर टिकाएंगे। कमर तक का ऊपरी हिस्सा बेड पर रहेगा और हिप्स समेत पैर दीवार को छूएंगे। इस मुद्रा में 5-7 मिनट तक रहा जा सकता है।
शलभासन – ये आसन कमर और सीने दोनें के लिए अच्छा है। इससे स्मरण शक्ति भी बढ़ती है, साथ ही रक्त संचार बेहतर होता है। अपने बिस्तर पर पेट के बल उलटा हो जाये और अपने दोनों हाथों को जांघाओं के बराबर में रखें। अब अपनी गर्दन को उपर की और उठा ले और ठोडी को जमीन से लगा लें। इसके पश्चात अपने पैरों को धीरे-धीरे बिना मोड़े उपर की तरफ उठाएं। अब जितनी देर आपसे हो सके, अपने पैरों को ऊपर की और उठाकर रखे। कुछ देर इसी मुद्रा में रहकर लौट आएं।

Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a comment