मालदीव की संसद से PM मोदी का पाक पर निशाना, आतंक पर कहा- पानी सिर से ऊपर निकल गया

माले : मालदीव की संसद में ऐतिहासिक संबोधन के दौरान शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद पर जहां पाकिस्तान को घेरा तो वहीं, कर्ज के जाल में फंसाने की चीन की चाल पर भी निशाना साधा। पीएम ने कहा कि आतंकवाद हमारे समय की एक बड़ी चुनौती है।

 पाकिस्तान का नाम लिए बगैर पीएम मोदी ने कहा कि यह दुर्भाग्य है कि लोग अब भी अच्छा आतंकी और बुरा आतंकी का भेद करने की गलती कर रहे हैं। 

पीएम ने साफ कहा कि आतंकवाद की चुनौती से निपटने के लिए सभी मानवतावादी शक्तियों का एकजुट होना जरूरी है। वहीं, चीन के मद्देनजर मालदीव को संदेश देते हुए मोदी ने कहा कि हम मित्र हैं और मित्रता में कोई छोटा या बड़ा नहीं होता है।

 उन्होंने कहा कि भारत की विकास साझेदारी लोगों को सशक्त करने के लिए है, उन्हें कमजोर करने, खुद पर निर्भरता बढ़ाने या भावी पीढ़ियों पर कर्ज का बोझ लादने के लिए नहीं है।

 दरअसल, चीन ने मालदीव को भारी कर्ज देकर गहरे संकट में फंसा दिया है।पीएम ने कहा कि आतंकवाद हमारे समय की एक बड़ी चुनौती है। 

यह खतरा एक देश या एक क्षेत्र के लिए नहीं, ये खतरा पूरी मानवता के लिए है। उन्होंने कहा कि कोई दिन ऐसा नहीं जाता है जब आतंकवाद कहीं किसी जगह अपना भयानक रूप दिखाकर किसी निर्दोष की जान न लेता हो।

 उन्होंने कहा कि आतंकियों के न तो अपने बैंक होते हैं, न टकसाल और न ही हथियारों की फैक्ट्री फिर भी उन्हें धन और हथियारों की कभी कमी नहीं होती है। कहां से पाते हैं ये सब, कौन देता उन्हें ये सुविधाएं? पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए पीएम ने कहा कि आतंकवाद की स्टेस स्पॉन्सरशिप सबसे बड़ा खतरा बना हुआ है। 

उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्य है कि लोग अभी भी अच्छा आतंकी और बुरा आतंकी का भेद करने की गलती कर रहे हैं। PM ने कहा, 'कृत्रिम मतभेदों में पड़कर हमने बहुत समय गंवा दिया है। पानी अब सिर से ऊपर निकल रहा है।

 आतंकवाद की चुनौती से निपटने के लिए सभी मानवतावादी शक्तियों का एकजुट होना जरूरी है।' उन्होंने कहा कि आतंकवाद और कट्टरपंथ से निपटना विश्व के नेतृत्व की सबसे खरी कसौटी है।  
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment