NCP नेता छगन भुजबल की गिरफ्तारी से महाराष्ट्र की राजनीति गरमाई

महाराष्ट्र सदन घोटाले मामले में एनसीपी और ओबीसी के दिग्गज नेता छगन भुजबल को ईडी द्वारा गिरफ्तार किए जाने पर राज्य की राजनीति गरमा गई है। एनसीपी के नेताओं ने भुजबल की गिरफ्तारी को राजनीति षड्यंत्र बताया है।

 इसके साथ ही विधान परिषद में विपक्ष के नेता धनंजय मुंडे के निवास स्थान पर समता परिषद और एनसीपी के नेता जमा हुए, जहां अगली रणनीति पर फैसला लिया गया।

फिलहाल मुंडे ने कार्यकताओं से शांत रहने और कानून को हाथ में नहीं लेने का आह्वान किया है। वैसे, जब भुजबल सुबह में ईडी के दफ्तर पहुंचे थे तभी भी उनके समर्थकों ने शक्ति प्रदर्शन किया था। अब नासिक के पास भुजबल के इलाके येवला में समता परिषद के कार्यकर्ताओं ने रास्ता रोको आंदोलन शुरू कर दिया है।

 दो बसों पर पथराव करके तोड़फोड़ किया है। सूत्रों का कहना है कि मंगलवार को जब भुजबल को कोर्ट में पेश किया जाएगा, उस समय भी भुजबल के समर्थक बड़ी संख्या में जमा हो सकते हैं।

गौरतलब है कि करोड़ों रुपये के महाराष्ट्र सदन घोटाले में राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री छगन भुजबल को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सोमवार को गिरफ्तार कर लिया। मनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तारी से पहले एनसीपी के दिग्गज नेता से करीब 10 घंटे पूछताछ की गई।

 इस मामले में उनके भतीजे व पूर्व सांसद समीर भुजबल को पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है जबकि बेटे पंकज भुजबल से भी पूछताछ हो चुकी है।  

सूत्रों के मुताबिक उन्हें मंगलवार को ईडी की विशेष अदालत में पेशी के बाद पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया जाएगा। घोटाले के वक्त भुजबल महाराष्ट्र सरकार में लोकनिर्माण विभाग के मंत्री थे। उनसे पूछताछ में यह पता लगाया जाएगा कि घोटाले की रकम कहां भेजी गई।

ईडी के पहले ही राज्य के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने भुजबल और 14 अन्य लोगों के खिलाफ महाराष्ट्र सदन घोटाले मामले में एक चार्जशीट दाखिल कर दी थी। ईडी ने भुजबल परिवार की मुंबई और नवी मुंबई में दो प्रापर्टी सील कर 114 करोड़ रिकवर किए। इस घोटाले की कई जानकारियां अभी सामने आनी बाकी हैं।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment