फ्रांस में दिखेगा भारत का दम



भारत की गिनती दुनिया की महाशक्तियों में होती है. भारत अर्थव्यवस्था, व्यापार से लेकर सैन्य मोर्चे तक एशिया का अव्वल देश हर दिन साबित हो रहा है. वैश्विक स्तर पर भारत का कद तेजी से बढ़ रहा है. भारतीय सेना दुनिया की टॉप 5 सेनाओं की लिस्ट में है, वहीं पाकिस्तान हर मोर्चे पर बदहाल नजर आता है.
फ्रांस की मशहूर पोर्ट सिटी, बोर्डो में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह दशहरे के मौके पर राफेल पर सवार होकर शस्त्र पूजन करेंगे तो वहीं आर्थिक मोर्चे पर आर्थिक संकट में घिरे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान कश्मीर का रोना रोने चीन जाएंगे.
जिस घड़ी रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह फ्रांस में लड़ाकू विमान राफेल पर शस्त्र पूजा करेंगे, उस घड़ी पाकिस्तान का कलेजा दहल रहा होगा. पाकिस्तान को पता है कि एक एयरस्ट्राइक ने उसकी हालत कैसे खराब कर दी थी. लेकिन राफेल में वो ताकत है कि वो दुश्मन को किसी भी कोने से ढूंढ़कर मिट्टी में मिला सकता है.
इमरान खान चीन अकेले नहीं जा रहे हैं, उनके साथ पाकिस्तान आर्मी के चीफ कमर जावेद बाजवा भी होंगे. हैरान करने वाली बात यह है कि हाल के दिनों में पाकिस्तान आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा जिस तरह से अपने देश में एक के बाद एक महत्वपूर्ण बैठकें कर रहे हैं, लग रहा है कि प्रधानमंत्री इमरान खान न होकर बाजवा ही हैं.
'राजनाथ' का शस्त्र पूजन
विजयदशमी का दिन शस्त्र पूजा का दिन होता है. यह रावण पर भगवान राम की विजय का दिन है. इस बार इस दिन सबसे बड़ी शस्त्र पूजा फ्रांस में होगी. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सबसे बड़े लड़ाकू विमान राफेल पर दशहरे के दिन शस्त्र पूजा करेंगे. भारत की शक्ति में चार चांद लगाने वाला राफेल अब हमारी वायुसेना का हिस्सा होगा.
आतंकवादियों के लिए जन्नत पाकिस्तान की सबसे बड़ी शामत आ रही है. अब दुश्मन की आतंकी शैतानियों पर बरसने वाली सबसे बड़ी एयर स्ट्राइक आ रही है. भारतीय वायुसेना को घातक-मारक मिसाइलों से लैस राफेल विमान मिलने है. परंपराओं की पीठ पर सवार दशहरे को राम की शक्तिपूजा तो दुनिया देखती ही है, नए जमाने में दुनिया राजनाथ की शक्ति पूजा देखेगी, जब वो फ्रांस की राजधानी पेरिस में राफेल पर ही शस्त्र पूजा करेंगे.
भारत को मिलेगा अचूक अस्त्र
फ्रांस के लड़ाकू विमान राफेल को हासिल करने के लिए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पेरिस पहुंच चुके हैं. यह पहला मौका है जब किसी लड़ाकू विमान पर रक्षा मंत्री शस्त्र पूजा करेंगे. शस्त्र पूजा के साथ ही रक्षा मंत्री राफेल में उड़ान भी भरेंगे. इससे जुड़ा एक पराक्रम ये भी है कि राफेल हिंदुस्तान की वायुसेना को वो ताकत देगी, जैसी ताकत पहले कभी नहीं थी.
वायुसेना दिवस मिला राफेल
फ्रांस से भारत को कुल 36 लड़ाकू विमान मिलने वाले हैं. इस प्रक्रिया की शुरुआत 8 अक्टूबर से हो रही है. इससे अच्छा सुखद संयोग क्या होगा कि जिस 8 अक्टूबर को लड़ाकू विमान की चाबी भारत को मिल रही है, वो वायुसेना दिवस है. साथ ही इसी दिन विजयदशमी भी है. भगवान राम के सर्वोच्च शक्ति प्रदर्शन का दिन. राफेल भी दुश्मन पर अपना सबसे बडा शक्ति प्रदर्शन करेगा.

Share on Google Plus

click vishvas shukla

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment