भारत का दबाव नहीं, आतंकवाद के डर से खिलाड़ियों का इनकार: श्रीलंका

कोलंबो : श्रीलंकाई क्रिकेट टीम के सीनियर खिलाड़ियों के पाकिस्तान जाने से इनकार के बाद पड़ोसी मुल्क ने आरोप लगाया था कि भारत ने आईपीएल कॉन्ट्रैक्ट कैंसल करने की धमकी दी और इस वजह से इन खिलाड़ियों ने पाकिस्तान जाने से इनकार कर दिया है। अब श्रीलंका सरकार ने पाकिस्तान को करारा जवाब देते हुए कहा है कि खिलाड़ियों पर भारत का दबाव नहीं है, बल्कि उन्हें आतंकवाद का डर है।

श्रीलंका के खेल मंत्री हरिन फर्नांडो ने कहा कि यह बात पूरी तरह झूठ है कि भारत ने श्रीलंका के खिलाड़ियों पर पाकिस्तान में नहीं खेलने का दबाव बनाया। कुछ खिलाड़ियों ने नहीं खेलने का फैसला लिया, जो पूरी तरह 2009 की घटना पर आधारित है।

फर्नांडो ने पाकिस्तानी टीम को चुनौती देते हुए कहा, 'जाने से इनकार करने वाले खिलाड़ियों के फैसले का सम्मान करते हुए हमने कुछ ऐसे खिलाड़ियों को चुना है जो जाने के लिए तैयार हैं। हमारे पास फुल स्ट्रेंथ टीम है और हम उम्मीद करते हैं कि पाकिस्तान को पाकिस्तान में ही हराएंगे।'


गौरतलब है कि सुरक्षा की चिंता को लेकर श्रीलंकाई क्रिकेट टीम के 10 खिलाड़ियों ने पाकिस्तान दौरे से अपना नाम वापस ले लिया है। श्रीलंका को सितंबर-अक्टूबर में पाकिस्तान दौरे पर सीमित ओवरों की सीरीज खेलनी है। जिन खिलड़ियों ने पाकिस्तान दौरे से नाम वापस लिया है, उनमें वनडे टीम के कप्तान दिमुथ करुणारत्ने, टी-20 कप्तान लसिथ मलिंगा, पूर्व कप्तान एंजेलो मैथ्यूज, निरोशन डिकवेला, कुसल परेरा, धनंजय डी सिल्वा, अकिला धनंजय, सुरंगा लकमल, दिनेश चंडीमल और दिमुथ करुणारत्ने शामिल हैं।
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment