दार्जिलिंग : GJM-पुलिस के बीच झड़प,1 की मौत,ममता सरकार के साथ वार्ता करने से किया इनकार

दार्जिलिंग : पिछले 10 दिनों से अलग गोरखालैंड राज्य की मांग को लेकरअशांत चल रहे दार्जिलिंग में जीजेएम कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच आज व्यापक झड़प देखने को मिली. इसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई और इंडिया रिजर्व बटालियन (आईआरबी) के एक सहायक कमांडेंट समेत 35 सुरक्षाकर्मी घायल हो गए. सहायक कमांडेंट गंभीर रूप से घायल हो गए.
दार्जिलिंग में कुछ सालों के अंतराल के बाद आठ जून से फिर से शुरू हुए हिंसक प्रदर्शन के बाद से यह पहली मौत है. 
एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के कार्यकर्ताओं ने कई स्थानों पर पेट्रोल बम फेंके, पथराव किया और बोतल फेंके. इस पर सुरक्षा बलों ने आंसू गैस के गोले दागे और भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठी चार्ज का सहारा लेना पड़ा.
हालात पर नियंत्रण के लिये सेना की टुकड़ियां तैनात की गई हैं और दार्जिलिंग और कुसर्यिांग समेत हिंसा प्रभावित पहाड़ी जिले के कई क्षेत्रों में सेना ने फ्लैग मार्च किया. वहां अलग गोरखालैंड राज्य की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन बंद आज तीसरे दिन भी जारी रहा.

दार्जिलिंग की पहाड़ियों में जारी आंदोलन के बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मोदी सरकार पर आंदोलन को प्रोत्साहित करने के आरोप लगाए. ममता ने दावा किया कि इसमें गहरा षड्यंत्र है.
शाह ने कहा कि ममता को हर चीज में षड्यंत्र दिखता है. शाह ने कहा, ममता को हर चीज में षड्यंत्र दिखता है. उन्होंने भारतीय सेना के खिलाफ भी ऐसे ही आरोप लगाए थे. उनसे पूछा गया था कि दार्जिलिंग में चल रहे आंदोलन को ममता ने गहरा षड्यंत्र करार दिया है जिसका समर्थन पूर्वोत्तर के कुछ उग्रवादी समूह और दूसरे देश कर रहे हैं.
छोटे राज्य बनाने के बीजेपी के रूख के बारे में पूछे जाने पर शाह ने कहा, यह सच है कि हम छोटे राज्यों के पक्ष में हैं. इस बारे में निर्णय होते ही हम घोषणा कर देंगे.
जीजेएम ने पश्चिम बंगाल सरकार के साथ किसी भी तरह की वार्ता से  इंकार किया. लेकिन जीजेएम केंद्र की बीजेपी सरकार के साथ वार्ता करने को लेकर सहज हैं. बीजेपी गोरखा जनमुक्ति मोर्चा  की सहयोगी है और पार्टी के सांसद एस एस अहलुवालिया जीजेएम की मदद से 2014 का लोकसभा चुनाव जीते थे .
जीजेएम के नेता बिनय तमांग ने कहा, हम पश्चिम बंगाल सरकार के साथ वार्ता करने को तैयार नहीं है.
 ममता बनर्जी ने हमारा अपमान किया है उन्होंने हमें आतंकवादी कहा है उन्होंने कहा, हम अपने अधिकारों और आजादी को लेकर संघर्ष कर रहे हैं. हम केवल केंद्र सरकार के साथ वार्ता करेंगे. ममता बनर्जी और उनकी तृणमूल कांग्रेस सरकार के साथ वार्ता करने में हमारी दिलचस्पी नहीं है.
Share on Google Plus

click News India Host

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment